-->

प्रधानमंत्री मोदी फ्री लैपटॉप वितरण योजना? [सच है या झूठ]

प्रधानमंत्री फ्री लैपटॉप वितरण योजना: Pradhan Mantri Free laptop Scheme पूरी तरह से Fake Scheme हैं। इस पर आईटी की धारा 66 डी के तहत एफआईआर भी दर्ज है आइये इसके बारें में विस्तार से जानते है...

    Pradhan Mantri Free Laptop Scheme: प्रधानमंत्री फ्री लैपटॉप वितरण योजना (Online Registration कैसें करें?)

    यदि आप भी इन्टरनेट और व्हाट्सएप्प पर वायरल प्रधानमंत्री फ्री लैपटॉप वितरण स्कीम के इस मैसेज या खबर को सच्च मान रहे है तो आज हम आपको इंटरनेट पर वायरल इस योजना का सच बताने जा रहे है जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। जी हां दोस्तों आपने कुछ दिनों से इंटरनेट और बाकी सभी जगह पर वायरल हो रही Pradhan Mantri Free Laptop Yojana के बारे में जरूर सुना होगा और शायद आपने उस पर रजिस्ट्रेशन भी कर दिया होगा!

    तो आपको बता दें यह योजना पूरी तरह से Fake यानी झूठी योजना है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा ऐसी कोई भी योजना नहीं चलाई जा रही अगर आपको यह योजना सही लग रही है और आपको हमारी बात का यकीन नहीं हो रहा तो इस स्कीम के सच के बारे में विस्तार से जान लेते हैं।

    Pradhan Mantri Free Laptop Vitran Yojna
    Pradhan Mantri Free Laptop Distribution Scheme

    Pradhan Mantri Free Laptop Yojana Online Registration

    प्रधानमंत्री फ्री लैपटॉप योजना पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें इसके बारे में भी आपको कई लोगों ने बता दिया होगा जब आप इस पर Registration करते हैं तो इसमें आपसे आपका नाम, मोबाइल नंबर, उम्र ,और राज्य का नाम भरकर सबमिट करने के लिए कहा जाता है। जब आप इसे सबमिट करते हैं तो आपसे कुछ आसान से सवाल पूछे जाते हैं, जैसे कि क्या आपके पास लैपटॉप है?

    क्या आप इस योजना का लाभ पहले उठा चुके हैं? कुछ इसी तरह के सवाल पूछे जाते हैं जिनका जवाब हां या ना में देने के बाद आपको इससे अपना रजिस्ट्रेशन नंबर लेने के लिए इसे 10 Whatsapp ग्रुप में शेयर करना होता है जो की पूरी तरह से फेक दिखाई देता है।

    प्रधानमन्त्री फ्री लैपटॉप वितरण योजना की सच्चाई क्या है?

    Pradhan Mantri Free laptop Yojana की सच्चाई की बात करें तो यह पूरी तरह से Fake Scheme हैं, आइए इस योजना और इसके रजिस्ट्रेशन के पीछे की कुछ ऐसी बाते जानते है जिससे ये स्कीम फेक साबित होती है।


    1. व्हाट्सएप और सोशल मीडिया पर वायरल होना

    अगर यह योजना भारत सरकार या प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लागू की गई होती तो इसका प्रचार/विज्ञापन या इस न्यूज़ को आपके टीवी पर जरूर दिखाया जाता और इसके बारे में प्रधानमंत्री मोदी या फिर उनके किसी मंत्री द्वारा यह जानकारी अवश्य साझा की गयी होती।

    लेकिन ऐसा नहीं किया गया और व्हाट्सएप पर ही इसे शेयर किया गया जिससे साफ पता चलता है कि यह एक झूठी योजना है।


    PM Modi Free Laptop Scheme Registration
    PM Modi Free Laptop Scheme Registration

    2. वेबसाइट का सिक्योर ना होना

    मुफ्त लैपटॉप योजना वाली वेबसाइट को ओपन करने पर यहां आपको इसके URL में केवल HTTP (हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकोल) दिखाई देता है मतलब यह वेबसाइट सिक्योर नहीं है। जिसका अर्थ यह है की यहाँ से आपका डाटा चुराया जा सकता है।


    3. रजिस्ट्रेशन करते समय सवाल पूछना

    जब आप इस योजना के लिए Registration करते हैं तो आपको कुछ ऐसे सवाल पूछे जाते हैं, जिनका जवाब आप कुछ भी दें आपको लैपटॉप के लिए Register कर लिया जाएगा।


    4. व्हाट्सएप ग्रुप में शेयर करने के लिए कहना

    जब आप इसका रजिस्ट्रेशन कंप्लीट कर लेते हैं तो इनके द्वारा आपको मेक इन इंडिया लैपटॉप के प्रचार के लिए इसे 10 Whatsapp ग्रुप में शेयर करने के लिए कहा जाता है वरना आपको इसका रजिस्ट्रेशन नंबर ही नहीं मिलेगा जो कि किसी भी समझदार आदमी के लिए समझना आसान है कि यह एक Fake वेबसाइट है।


    Pradhan Mantri Make In India Laptop Yojna
    Pradhan Mantri Make In India Laptop Yojna

    लैपटॉप स्कीम में Online Registration कैसें करें?

    ऐसी किसी भी योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करने से पहले यह जाँच ले कि वह योजना सच्ची हो अन्यथा किसी भी वेबसाइट पर दी गयी आपकी जरूरी जानकारी जैसे नाम, मोबाइल नंबर, DOB, आधार कार्ड आदि का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है।

    किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर ही रजिस्ट्रेशन करें।


    प्रधानमंत्री लैपटॉप योजना के पीछे कौन है?

    मोदी सरकार ने यह साफ तौर पर कह दिया है कि यह संदेश पूरी तरह से फर्जी है, और इस पर आईटी की धारा 66 डी के तहत एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है, और पुलिस की जांच के बाद इसके पीछे के असली आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

    आपको बता दें पुलिस ने राजस्थान के नागौर से राकेश जांगिड़ को गिरफ्तार किया है, राकेश जांगिड़ आईआईटी कानपुर के 2019 बैच का छात्र है। बताया यह भी जा रहा है कि राकेश जांगिड़ ने ही अपने भाई के साथ मिलकर एडवरटाइजिंग से पैसा कमाने के लिए ऐसी वेबसाइट बनाई थी।


    नोट: दोस्तों आपको बता दें जो भी सरकारी योजनाएं होती हैं वह सरकारी वेबसाइट पर ही मिलती है जिनका एक्सटेंशन ज्यादातर gov.in होता है।


    अन्तिम शब्द

    दोस्तों अब तो आप समझ ही गए होंगे कि प्रधानमंत्री फ्री लैपटॉप वितरण योजना का सच क्या है, और अब आपको यह भी पता चल गया होगा कि Pradhan Mantri Free Laptop Distribution Scheme की यह सभी वेबसाइट झूठी हैं और यह सभी खबरें फर्जी खबरें हैं।


    इससे पहले 2018 में भी इसी तरह की मुफ्त लैपटॉप स्कीम की खबरें देश भर में वायरल हो चुकी हैं।

    मेरी आपसे यही गुजारिश है कि अगर आने वाले दिनों में भी आपको कोई भी ऐसी योजना व्हाट्सएप पर या फिर किसी और सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर दिखाई देती है तो उसे तुरंत डिलीट या फिर रिपोर्ट करें, जिससे आपका डाटा चोरी होने से बचाया जा सके।


    दोस्तों अगर आपके मन में अब भी कोई सवाल है या सुझाव देना चाहते हैं तो आप नीचे कमेंट में हमें लिखकर जरूर बताएं, और इससे अपने उन सभी दोस्तों के साथ शेयर करें जिन्हें आपने ये फेक लिंक शेयर किया है।

    follow haxitrick on google news
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post