परवेज़ मुशर्रफ़ कौन है? क्यों दी जा रही है मौत की सजा | Pervez Musharraf Bio in Hindi

    परवेज़ मुशर्रफ़ कौन है? Pervez Musharraf History And Biography in Hindi | Death Penalty Date

    Pervez Musharraf History And Biography in Hindi: पाकिस्तान के दसवें राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का पाकिस्तानी राजनीति में अहम योगदान रहा है, वह पाकिस्तान के राष्ट्रपति होने के साथ-साथ सेना प्रमुख भी रह चुके हैं. आज परवेज मुशर्रफ को देशद्रोही करार देते हुए इस्लामाबाद की एक विशेष अदालत ने उन्हें फांसी की सजा का ऐलान किया है.

    हम आपको बता दें कि परवेज मुशर्रफ इस समय दुबई के अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे हैं.
    Parvez Musharraf Kaun Hai Kyu Faansi Di Ja Rahi Hai Information Hindi
    Parvez Musharraf Kaun Hai Kyu Faansi Di Ja Rahi Hai Information Hindi
    दोस्तों आज हम आपको परवेज मुशर्रफ कौन हैं (Who is Pervez Musharraf History and Biography in Hindi) परवेज मुशर्रफ को फांसी क्यों दी जा रही है (Pervez Musharraf Death Penalty Date) और उनके बारे में पूरी जानकारी (All Information in Hindi) देने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं और जान लेते हैं, कि आखिर यह पूरा मामला क्या है और परवेज मुशर्रफ को फांसी क्यों दी जा रही है.

    परवेज मुशर्रफ कौन है | Who is Pervez Musharraf History and Biography in Hindi

    1. जन्म: परवेज मुशर्रफ का जन्म 11 अगस्त 1943 को ब्रिटिश भारत के दिल्ली के दरियागंज में हुआ, परंतु उनकी चार साल की उम्र में ही भारत के बंटवारे के बाद उनका परिवार कराची (पकिस्तान) चला गया.

    2. माता-पिता: हालांकि उनके पिता (Father) सैयद मुशर्रफुद्दीन उस समय नई पाकिस्तानी सरकार के लिए विदेश मंत्रालय के साथ जुड़े. और मां (Mother) बेगम ज़रीन मुशर्रफ भी काफी पढ़ी लिखी थी, उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के इंद्रप्रस्थ कॉलेज से अंगेजी साहित्य में स्नातक की उपाधि हासिल की हुई थी.

    3. पढ़ाई: परंतु जल्द ही 1949 में परवेज मुशर्रफ के पिता का ट्रांसफर तुर्की में हुआ इसीलिए वह पाकिस्तान से तुर्की चले गए, वहीं से इन्होंने तुर्की भाषा को सीखा और 1957 में इनका परिवार फिर वापस पाकिस्तान लौट आया. इन्होंने अपनी पढ़ाई कराची के सेंट पैट्रिक स्कूल से शुरू की और बाद में वह फोरमैन क्रिश्चियन कॉलेज में कॉलेज की पढ़ाई करने गए.

    4. सैन्य अकादमी: पढ़ाई पूरी करने के बाद परवेज मुशर्रफ सन 1961 में (जब उनकी उम्र 18 साल थी) में पाकिस्तानी सैन्य अकादमी में शामिल हुए, और लगभग 4 साल बाद 1965 में उन्होंने भारत के खिलाफ युद्ध लड़ा जिसके लिए उन्हें वीरता पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया परंतु भारत के साथ हुए 1971 में दूसरे युद्ध मैं उन्हें भारत के तरफ से मुंह की खानी पड़ी.

    5. जनरल का पद: इसके बाद अक्तूबर 1998 में परवेज़ मुशर्रफ़ को जनरल का पद मिलने के बाद वह सैन्य प्रमुख बन गए, और अगली ही साल 1999 में जनरल परवेज मुशर्रफ ने बिना खून बहाए सैन्य विद्रोह कर तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ़ को पद से हटा कर पाकिस्तान की सत्ता अपने हाथ में ली.

    यह भी पढ़े: एनआरसी और कैब क्या है | What Is NRC and CAB Information in Hindi

    6. राष्ट्रपति पद: इतना ही नहीं जनरल मुशर्रफ जून 2001 में सैन्य प्रमुख पद के पर रहते हुए खुद को राष्ट्रपति घोषित कर पाकिस्तान के राष्ट्रपति बन गए और फिर अप्रैल 2002 में बाकायदा आम चुनावों में बहुमत हासिल कर 5 साल के लिए राष्ट्रपति बने। परन्तु आलोचकों के अनुसार उन्होंने चुनावों में धांधली की थी।

    7. लाल मस्जिद पर हमला: परन्तु जुलाई 2007 में उनके द्वारा दिए गए आदेश पर लाल मस्जिद पर हुई सैनिक कार्रवाई में लगभग 90 धार्मिक विद्यार्थियों और कुछ लोग मौत की नींद सो गए.

    8. आपातकाल: अपने 2002 में जीते चुनावों के 5 साल बाद 6 अक्तूबर 2007 में मुशर्रफ दुबारा राष्ट्रपति का चुनाव जीत गए। लेकिन इस बार उनके चुनाव को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती का सामना करना था।

    जिसके बाद Musharraf ने 3 नवंबर 2007 को पाकिस्तान में आपातकाल (Emergency) लागू कर दिया और मुख्य न्यायाधीश जस्टिस इफ़्तिख़ार चौधरी को हटा कर नया मुख्य न्यायाधीश नियुक्त कर दिया, जिसके फलस्वरूप 24 नंवबर को पाकिस्तान चुनाव आयोग द्वारा इस चुनाव को सही ठहराया गया.

    9. असैन्य राष्ट्रपति: और जनरल परवेज़ मुशर्रफ ने इस बार सैनिक वर्दी त्याग कर पाकिस्तान के असैनिक राष्ट्रपति के तौर पर यह पद संभाला।

    10. इस्तीफ़ा: लेकिन Pervez Musharraf पर इस्तीफे का दबाव लगातार बढ़ने के कारण उन्होंने 18 अगस्त 2008 को राष्ट्रपति पद से इस्तीफ़ा दे दिया।

    यह भी पढ़े: शौर्य दिवस 6 दिसंबर 2019: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास

    परवेज मुशर्रफ को फांसी क्यों दी जा रही है

    मुशर्रफ पर लगा देशद्रोह का मामला आज का नहीं बल्कि आज से 5 साल पहले 31 मार्च, 2014 से ही उनके ख़िलाफ़ अदालती सुनवाई शुरू हुई थी.

    हम आपको बता दें की परवेज मुशर्रफ पर देशद्रोह का इल्जाम 3 नवंबर 2007 को पाकिस्तान में लगाए आपातकाल से जुड़ा हुआ है, जब वे तत्कालिक सत्ता में थे.

    मुशर्रफ़ ने पाकिस्तान में आपातकाल लागू करने के साथ ही पाकिस्तान के महत्त्वपूर्ण जजों को नज़रबंद कर दिया था. लेकिन जब 2013 में नवाज़ शरीफ़ वापस सत्ता में आए तो Pervez Musharraf के ख़िलाफ़ आपातकाल थोपने को लेकर उनपर राजद्रोह का मुकदमा शुरू करने के लिए पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया.

    जिसके बाद ने 5 अप्रैल 2013 को सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को स्वीकार किया और Pervez Musharraf के ख़िलाफ़ 31 मार्च, 2014 से अदालती सुनवाई शुरू हुई। आपको बता दें की Pakistan में इस इलज़ाम के सिद्ध होने पर मृत्युदंड तक का प्रावधान है।

    यह भी पढ़े: व्हाट्सएप फिंगरप्रिंट अनलॉक फीचर कैसे ऑन करे, Step By Step तरीका हिंदी में

    अंतिम शब्द

    दोस्तों अब तो आपको परवेज मुशर्रफ कौन हैं, (Who is Pervez Musharraf History and Biography in Hindi), परवेज मुशर्रफ को फांसी क्यों दी जा रही है (Pervez Musharraf Death Penalty Date) और इस मामले के बारे में पूरी जानकारी (All Information Hindi Me) मिल ही गई होगी.

    अगर आपको Pervez Musharraf Kaun Hai Information in Hindi की यह जानकारी अच्छी लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर साझा करें.
    ---------यह भी पढ़े:----------
    परवेज़ मुशर्रफ़ कौन है? क्यों दी जा रही है मौत की सजा | Pervez Musharraf Bio in Hindi परवेज़ मुशर्रफ़ कौन है? क्यों दी जा रही है मौत की सजा | Pervez Musharraf Bio in Hindi Reviewed by Sandeep Kumar on Wednesday, December 18, 2019 Rating: 5

    परवेज मुशर्रफ कौन हैं, Who is Pervez Musharraf History and Biography in Hindi, परवेज मुशर्रफ को फांसी क्यों दी जा रही है, Death Penalty Date Information in Hindi

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer