World Blood Donor Day 2020: कब मनाया जाता है विश्व रक्तदाता दिवस, जानें इतिहास और थीम

    Advertisement

    World Blood Donor Day 2020 Date: क्यों, कैसे और कब मनाया जाता है विश्व रक्तदाता दिवस, जानें इतिहास और थीम

    Vishva Raktdata Diwas Kab Hai 2020 Date India: हमारे जीवन में रक्त या खून क्या महत्व रखता है यह है शायद वही जानता है जिसे इसकी आपात स्थिति में आवश्यकता पड़ती है। कई बार एक्सीडेंट के दौरान या फिर ऑपरेशन या किसी अन्य कारण से रक्त की आवश्यकता जब मरीज को पड़ती है तो ऐसे में रक्तदाताओं द्वारा दान किए गए खून से कई लोगों की जान बचाई जाती है।

    आपको बता दें की जो व्यक्ति रक्तदान करता है उसे रक्तदाता कहा जात है, और विश्व रक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day Hindi) हर साल 14 जून को मनाया जाता है इस साल भी रक्तदान दिवस 14 जून 2020 को रविवार के दिन मनाया जा रहा है, इस दिवस को कई लोग विश्व रक्तदान दिवस के नाम से भी जानते है।

    World Blood Donor Day 14 June 2020 in Hindi Kab Manaya Jata Hai
    World Blood Donor Day Date: 14 June 2020

    विश्व रक्तदान दिवस पहली बार 2004 में मनाया गया था आज भी कई लोगों को रक्त की आवश्यकता पड़ रही है ऐसे में एक बार फिर रक्तदान दिवस यह सुनिश्चित करेगा कि सभी लोगों को तक रक्त पहुंच सके और किसी की भी मौत रक्त के आभाव की वजह से ना हो।

    आज Vishva Raktdata Diwas २०२० के अवसर पर हम आपके साथ विश्व रक्तदाता दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है तथा इस साल की थीम (Theme in Hindi) और इसका इतिहास (History of World Blood Donor Day) और इसका मेजबान देश कौन सा है यह बताने जा रहे हैं।


    World Blood Donor Day 2020 Information in Hindi

    About World Blood Donor Day 2020 in Hindi:
    नामविश्व रक्तदाता दिवस, (वर्ल्ड ब्लड डोनर डे)
    तिथि14 जून
    पहली बार14 जून 2004
    शुरुआत2004 में “एबीओ रक्त समूह” की खोज करने वाले कार्ल लैंडस्टीनर के जन्मदिन के उपलक्ष में
    उद्देश्यलोगों को रक्तदान करने के लिए प्रेरित करना और रक्तदाताओं को धन्यवाद करने के लिए
    अगली बार14 जून 2021
    थीम (विषय)सुरक्षित रक्त जीवन बचाता है (Safe blood saves lives)

    यह भी पढ़ें: Yoga Day 2020: मोदी जी ने बताया 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

    कब मनाया जाता है विश्व रक्तदाता दिवस?

    हर साल 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस मनाया जाता है जिसका उद्देश्य लोगों को रक्तदान करने के लिए प्रेरित करना और इसके बारे में जागरूक करना है। इस साल वर्ल्ड ब्लड डोनर डे 14 जून २०२० को रविवार के दिन मनाया जा रहा है। यह दिवस 14 जून 1868 को पैदा हुए “एबीओ रक्त समूह” की खोज करने वाले कार्ल लैंडस्टीनर के जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है जो एक नोबेल पुरस्कार विजेता भी थे।


    कैसे हुई Blood Donor Day की शुरुआत?

    विश्व रक्तदान दिवस मनाए जाने की शुरुआत विश्व स्वास्थ्य संगठन, अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस संघ, और रेड क्रिसेंट समाज द्वारा सन 2004 में की गई थी जिसमें 14 जून को विश्व रक्तदान दिवस के रूप में मनाए जाने की बात कही गई थी। जिसके बाद पहला World Donor Day 14 जून 2004 को मनाया गया था।


    क्या है ब्लड डोनर डे का इतिहास (History)?


    विश्व रक्तदाता दिवस मनाए जाने के पीछे महान वैज्ञानिक और नोबेल पुरस्कार विजेता कार्ल लैंडस्टीनर है उन्होंने ही “एबीओ ब्लड ग्रुप सिस्टम” की खोज की थी। वर्ल्ड ब्लड डोनर डे Karl Landsteiner के जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है जिनका जन्म 14 जून 1868 को हुआ था। कार्ल ने विभिन्न ब्लड ग्रुप की खोज की थी और उन्हें इस खोज के लिए वर्ष 1930 में नोबेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।


    यह भी पढ़ें: Plasma Therapy in Hindi: जानिए क्या है प्लाज्मा थेरेपी

    क्यों मनाया जाता है विश्व रक्तदाता दिवस

    दुनिया भर में रक्त की जरूरत को पूरा करने के लिए और लोगों को रक्तदान के लिए प्रेरित करने के लिए तथा रक्त दाताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए और इसे बढ़ावा देने के लिए हर साल विश्व रक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day) मनाया जाता है इस अभियान से लाखों लोगों की जान बचाई जा सकती है साथ ही यह दिन उन सभी रक्त दाताओं को धन्यवाद करने का दिन है जो रक्तदान करते आए हैं।


    गर्भवती माताओं और बच्चों के जीवन को बचाने के लिए रक्तदान करने वाले लोगों को प्रेरित करना।

    स्वेच्छा और बिना भुगतान वाले (बिना पैसे लिए) रक्त दाताओं को रक्तदान के लिए प्रोत्साहित करना।


    विश्व रक्तदाता दिवस कैसे मनाया जाता है?

    वर्ल्ड ब्लड डोनर डे के दिन दुनिया भर में रक्तदान का महत्व बताते हुए इसे एक खास थीम के साथ मनाया जाता है। इस दिन को विश्व स्वास्थ्य संगठन, रेड क्रॉस अंतरराष्ट्रीय संघ और रेड क्रीसेंट समाज और रक्तदान संगठनों और कई दूसरे संगठनों द्वारा वैश्विक स्तर पर लोगों को जागरूक करने के लोगों को रक्तदान के लिए प्रोत्साहित करते हुए कई अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों का आयोजन करके मनाया जाता है।

    साथ ही सार्वजनिक स्थलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और दूसरे शैक्षिक संस्थानों पर भी रक्तदान के लिए कैंप लगाए जाते हैं जहां लोग स्वेच्छा से आकर रक्तदान कर सकते हैं।


    यह भी पढ़ें: World Health Day 2020: विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य दिवस पर जानिए क्या है थीम और डब्ल्यू.एच.ओ

    विश्व रक्तदाता दिवस 2020 की थीम क्या है? - World Blood Donor Day Theme Hindi

    हर साल यह दिवस एक ख़ास थीम पर आधारित होता है इसीलिए इस बार भी एक Theme निर्धारित की गई है इस साल 2020 में विश्व रक्तदाता दिवस की थीम "सुरक्षित रक्त जीवन बचाता है" (Safe Blood Saves Life) नारे के साथ रक्तदान करें और दुनिया के जीवन को बचाएं मुहीम के साथ मनाया जा रहा है।


    विश्व रक्तदाता दिवस 2020 की मेजबानी कौन सा देश करेगा?

    हर साल इसकी मेजबानी (Hosting) किसी देश (Country) को दी जाती है पिछली साल 2019 में विश्व रक्तदाता दिवस की मेजबानी रवांडा ने की थी। परंतु इस बार कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते डब्ल्यूएचओ इस दिवस को डिजिटली मनाएगा।


    All World Blood Donor Day Themes in Hindi:
    2020सुरक्षित रक्त जीवन बचाता है
    2019सभी के लिए सुरक्षित रक्त
    2018रक्त हमें सभी से जोड़ता है
    2017रक्त देना, अभी देना ,अक्सर देना
    2016रक्त हमें सभी से जोड़ता है
    2015मेरा जीवन बचाने के लिये धन्यवाद।
    2014माताओं को बचाने के लिये रक्त बचायें।
    2013जीवन का उपहार दें: रक्त-दान करें।
    2012हर खून देने वाला इंसान हीरो होता
    2011अधिक रक्त, अधिक जीवन।
    2010विश्व के लिये नया रक्त।
    2009रक्त और रक्त के भागों का 100% गैर-वैतनिक दान को प्राप्त करना।
    2008नियमित रक्त दें।
    2007सुरक्षित मातृत्व के लिये सुरक्षित रक्त।
    2006सुरक्षित रक्त के लिये विश्वव्यापी पहुँच को सुनिश्चित करने के लिये प्रतिबद्धता।
    2005रक्त के आपके उपहार को मनायें।
    2004रक्त जीवन बचाता है। मेरे साथ रक्त बचाने की शुरुआत करें।

    रक्तदान करने के फायदे और कुछ जरूरी बाते

    आज भी दुनिया भर में लोगों के बीच रक्तदान को लेकर कई अलग-अलग भ्रम है कई लोग रक्तदान करते समय में काफी ज्यादा डरते हैं लेकिन हम आपको बता दें कि प्रदान करने से कोई खतरा नहीं होता संतु आपको ब्लड डोनेट करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।


    • पुरुष 3 महीने में और एक महिला 4 महीने में एक बार रक्तदान कर सकती है।

    • रक्तदान करने के 21 दिन बाद आपका खून दोबारा बन जाता है।

    • ब्लड डोनेट करने से किसी भी तरह की कमजोरी या फिर हीमोग्लोबिन की कमी नहीं होती।

    • रक्तदान करने से पहले या बाद में शराब या धूम्रपान का सेवन ना करें साथ ही सिगरेट, बीड़ी, तंबाकू गुटखा खाने से भी बचे।

    • खून देने के बाद आपको अपने शरीर का खास ख्याल रखना होता है ऐसे में आप हेल्दी डाइट ही ले और अधिक से अधिक मात्रा में फल, जूस आदि का सेवन करें।

    • रक्तदान करने के बाद कम से कम 12-18 घंटे के बाद तक हैवी एक्सरसाइज ना करें।

    • रक्तदान करने से आपका वजन नियंत्रित तो होता ही है साथ ही लीवर भी स्वस्थ रहता है।

    • 18 से 65 वर्ष वर्ष की आयु वाला कोई भी व्यक्ति रक्तदान कर सकता है जिसे कोई भी संक्रमण या रोग ना हो साथ ही उसका न्यूनतम वजन 50 किलोग्राम होना चाहिए।

    • ऐसे लोग रक्तदान नहीं कर सकते जो एचआईवी या हेपेटाइटिस पॉजिटिव हो, 6-12 महीनों के दौरान दिल का दौरा पड़ा हो या हाल ही में मलेरिया हुआ हो अथवा कोई टैटू बनवाया हो।

    यह भी पढ़ें: आज है विश्व एड्स दिवस, जाने वर्ल्ड एड्स डे कब, क्यों व कैसे मनाते है और क्या है इसकी थीम

    अंतिम शब्द

    दोस्तों का अब तो आप समझ ही गए होंगे कि रक्तदान (Blood Donation) कितना महत्वपूर्ण है और रक्तदाता भी किसी भगवान से कम नहीं है तो दोस्तों आज हम विश्व रक्तदाता दिवस २०२० के अवसर पर उन सभी रक्तदाताओं को हार्दिक नमन और धन्यवाद करते हैं जिन्होंने निस्वार्थ और स्वेच्छा से रक्तदान किया है और करते आ रहे हैं।

    दोस्तों अगर आप भी रक्तदान के सभी मानकों को पूरा करते हैं तो आप भी ब्लड डोनेट कर सकते हैं आपका रक्तदान किसी के जीवन को बचाने में कारगर साबित हो सकता है।

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer