ई-सिगरेट क्या होती है, भारत सरकार ने इसकी बिक्री पर क्यों लगाया बैन

-------कृपया पोस्ट को पूरा पढ़े-------

    E-Cigratte Information In Hindi And Why Banned In India

    E-Cigratte Information And Why Banned In India: Full Form In Hindi


    फ्रेंड्स आज का जमाना पूरी तरह से डिजिटल और इलेक्ट्रॉनिक होता जा रहा है और लोग अपने रोजमर्रा की चीजों को भी डिजिटल और इलेक्ट्रॉनिक बनाते जा रहे हैं और उन्हें का इस्तेमाल कर रहे हैं इसी कड़ी में शरीर को नुकसान पहुँचाने वाला सिगरेट भी शामिल हो गया है और सरकार ने अभी सिगरेट से होने वाले नुकसान को देखते हुए इस पर बैन लगाने का फैसला किया है।

    हम आपको बता दें कि एक शोध के मुताबिक यह पता चला है कि ई सिगरेट पीने से आर्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है।
    E-Cigratte Kya Hota Hai Banned in India Hindi
    E-Cigratte Kya Hota Hai Banned in India Hindi

    लेकिन अब कुछ ऐसे लोग हैं जिन्हें ई सिगरेट क्या होती है इसके बारे में नहीं पता और अगर कोई ई सिगरेट का सेवन कर रहा है तो उसे इससे होने वाले नुकसान के बारे में नहीं पता होता इसलिए आज हम आपको ई सिगरेट क्या है और ई सिगरेट से होने वाले नुकसान तथा इसे भारत सरकार ने क्यों बैन किया इसके बारे में भी बताने जा रहे हैं।

    ई-सिगरेट होती क्या है? | What Is E-Cigarette In Hindi

    ई-सिगरेट की फुल फॉर्म Electronic Cigarette होती है तथा यह एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक वेपराइजर होता है जिसे आप इनहेलर भी कह सकते है, इसमें निकोटिन (जो तम्बाकू में पाया जाता है) और अन्य रसायनयुक्त Liquid भरा जाता है। ये Inhaler Battery की मदद से इलेक्ट्रिक एनर्जी से इस तरल पदार्थ को भाप में बदल देता है, जिससे इसे पीने वाले को Cigratte Smoking जैसी फीलिंग होती है।

    ऐसे Devices को ENDS कहा जाता है, जिनका प्रयोग किसी घोल को गर्म करके एरोसोल बनाने के लिए किया जाता है, जिसमें विभिन्न स्वाद भी होते हैं।

    परन्तु e-सिगरेट में जो रासायन का यूज़ होता है, जिसमें ज्यादातर निकोटिन शामिल होता है और कई बार इससे भी ज्यादा खतरनाक रसायन डाले जाते हैं।

    इतना ही नहीं इसके अलावा कुछ ई-सिगरेट Brands में Formaldehyde (फॉर्मलडिहाइड) का इस्तेमाल भी किया जाता हैं, जो बहुत ज्यादा खतरनाक और कैंसरकारी Elements होते हैं।

    ई-सिगरेट भारत में क्यों बैन हुआ | Why E-Cigratte Banned In India

    कुछ दिन पहले ही भारत की केंद्र सरकार ने ई-सिगरेट पर बैन लगाने का फैसला लिया है यानी अब मार्केट में ई सिगरेट बिक्री के लिए उपलब्ध नहीं रहेगी। अब इंडिया में पूरी तरह से ई-सिगरेट के Production, Sale, Import और Export, Transport, Distribution, Storage और Advertisement पर रोक लगा दी गयी है।

    India से पहले e-Cigratte को NewYork में भी Ban किया गया था, ऐसा इसलिए किया गया क्यूंकि वहां रहने वाले Youths में e-सिगरेट का इस्तेमाल भारी मात्रा में किया जा रहा था। तथा इसी के परिणामस्वरूप वहाँ के युवाओं में फेफड़ों (lungs) से जुड़ी बीमारियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई और वहां ई-सिगरेट को पूरी तरह बैन कर दिया गया।

    United States में मिशिगन के बाद न्यूयॉर्क City दूसरा ऐसा State है, जहां फ्लेवर्ड ई-सिगरेट पर पूर्ण रूप से Ban लगाया जा चुका है।

    आखिर बैन करने की ज़रूरत क्यों पड़ी?

    ई-सिगरेट के इस्तेमाल या सेवन करने से व्यक्ति को Depression होने की संभावना दो गुना बढ़ जाती है। एक Research के अनुसार जो व्यक्ति e-सिगरेट का सेवन करता हैं, उसे हार्ट अटैक यानी दिल का दौरा होने की संभावना 56% तक बढ़ जाती है।

    इतना ही नही अगर इसका सेवन लंबे समय तक किया जाए तो Blood clot की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

    साथ ही बैन के नियमों की अवहेलना करने पर 1 वर्ष तक की जेल और 1 लाख रुपए जुर्माने का प्रावधान है।

    और एक से अधिक बार नियम का उल्लंघन करने वाले पर Ministry ने 5 लाख रुपए Penalty और 3 साल तक Jail की सजा सुनाने की सिफारिश की है।

    अन्तिम शब्द | e-Cigratte Information In Hindi

    Friends अब तो आप ई-सिगरेट के बारें में पूरी तरह वाकिफ़ हो गए होंगे, यानी E-Cigratte Kya Hota Hai, India Me Ban Kyu Kiya Gaya, और e-सिगरेट से होने वाले नुकसान के बारे में समझ ही गए होंगे की यह कितना हानिकारक है, e-Cigratte ही नहीं नॉर्मल सिगरेट भी आपको उतना ही नुकसान पहुचाता है।

    आप इस पोस्ट को दुसरे लोगों के साथ भी जरूर शेयर करें ताकि उन्हे भी शरीर में सिगरेट से होने वाले नुकसान के बारे में पता चल सके।
    ---------यह भी पढ़े:----------

    ई-सिगरेट क्या होती है, भारत सरकार द्वारा इसकी बिक्री क्यों लगाया बैन, What Is E-Cigratte Kya Hota Hai, Why E Cigarette Banned in India Hindi 2019 Full Form

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post