-->

लाल बहादुर शास्त्री जयंती 2020: 2 अक्टूबर को क्यों मनाई जाती है? उनके बारें में महत्वपूर्ण बाते और Quotes

    Advertisement

    Lal Bahadur Shastri Jayanti 2020: कब और क्यों मनाई जाती है? जानिए लाल बहादुर शास्त्री जी के बारे में और उनके अनमोल विचार (Quotes)

    Lal Bahadur Shastri Jayanti 2020: 2 अक्टूबर को गांधीजी जन्मदिन होता है यह तो आप सभी जानते हैं लेकिन बहुत कम लोगों को यह पता है 02 October को ही देश के दूसरे प्रधानमंत्री 'लाल बहादुर शास्त्री' का भी जन्मदिन होता है। लाल बहादुर शास्त्री एक शांत स्वभाव के इंसान थे और इस साल 2020 में देश उनकी 117वीं जयंती मना रहा है।

    सादगी से अपना जीवन व्यतीत करने वाले शास्त्री जी गांधीवादी परंपरा पर विश्वास रखने वाले नेता थे।

    2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में गरीब घर में पैदा होने वाले शास्त्री जी का जीवन काफी संघर्ष भरा रहा।

    गरीब परिवार से होने के बावजूद उन्होंने अपने जीवन में कड़ा संघर्ष करके देश के दूसरे प्रधानमंत्री बनने का गौरव हासिल किया और सबको यह दिखा दिया कि अगर मन में आत्मविश्वास हो तो इंसान कोई भी मंजिल पा सकता है।

    Lal Bahadur Sastri Jayanti 2 October 2020
    Lal Bahadur Sastri Jayanti 2 October 2020

    आइए अब आपको लाल बहादुर शास्त्री जी के बारें में बताते है और 2 अक्टूबर को उनकी जयंती क्यों मनाई जाती है इसके बारे में भी जानने का प्रयास करते हैं।

    लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती कब और क्यों मनाई जाती है?

    हर साल 2 अक्टूबर को लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती इसलिए मनाई जाती है क्योंकि 2 अक्टूबर 1904 को ही Lal Bahadur Shastri जी का जन्म हुआ था। वे देश के स्वतंत्रता सेनानी, कुशल राजनेता और भारत के दुसरे प्रधानमंत्री थे। और इस बार हम उनकी 117वीं जयंती मनाने जा रहे है।

    तो वहीं उनकी पूण्यतिथि को लालबहादुर शास्त्री स्मृति दिवस के रूप में हर वर्ष 11 जनवरी को मनाया जाता है।


    अगर आप Lal Bahadur Shastri के बारे में नहीं जानते तो आइए अब हम आपको लाल बहादुर शास्त्री जी के बारे में भी बताते हैं।

    लाल बहादुर शास्त्री जी के बारें में | About Lal Bahadur Shastri in Hindi

    शास्त्री जी के बारे में जानकारी:
    नाम: लाल बहादुर शास्त्री
    उपाधि: शास्त्री, भारत के दुसरे प्रधानमंत्री
    जन्म: 2 अक्टूबर 1904, मुगलसराय (उत्तर प्रदेश)
    पत्नी: ललिता देवी
    पिता का नाम: शारदा प्रसाद
    माता का नाम: रामदुलारी देवी
    शिक्षा: दर्शनशास्त्र
    मृत्यु: 11 जनवरी 1966, नई दिल्ली (भारत)

    लाल बहादुर शास्त्री का जन्म कब और कहां हुआ?

    लाल बहादुर शास्त्री जी ने उत्तर प्रदेश के मुगलसराय जिले में 2 अक्टूबर 1904 को एक गरीब परिवार में जन्म लिया। उनके पिता का नाम मुंशी शारदा प्रसाद श्रीवास्तव और माँ का नाम रामदुलारी देवी था। शास्त्री जी के पिता शुरूआती दिनों में एक स्कूल के अध्यापक थे, लेकिन बाद में वे आयकर विभाग में क्लर्क के लिए चुने गए।

    गरीब होने के बाद भी उनके पिता एक ईमानदार व्यक्ति के रूप में जाने जाते थे लेकिन उनकी मृत्यु उस समय हुई जब लाल बहादुर शास्त्री केवल 1.5 वर्ष के थे। पिता के देहांत के बाद उनकी माता राम दुलारी देवी ने उनका तथा उनकी दो बहनों का पालन पोषण अपने पिता के घर (मिर्ज़ापुर) किया।

    लाल बहादुर अपने दादा के घर से कक्षा 6 की परीक्षा पास की उस समय वे केवल 10 वर्ष के थे, इसके बाद वे उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाराणसी चले गए।

    स्वतंत्रता संग्राम में शास्त्री जी का योगदान

    जब 1921 में महात्मा गांधी द्वारा ब्रिटिश सरकार के खिलाफ असहयोग आंदोलन की शुरुआत हुई उस समय लाल बहादुर की उम्र केवल 16-17 साल थी।

    तथा महात्मा गांधी जी द्वारा सभी युवाओं को सरकारी स्कूलों और कॉलेजों, दफ्तरों से बाहर निकल कर आजादी के लिए सब कुछ न्योछावर करने का आह्वान करने पर शास्त्री ने अपना स्कूल छोड़ दिया और असहयोग आंदोलन में शामिल हो गये।

    और इस दौरान उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था परंतु कम उम्र होने की वजह से उन्हें रिहा कर दिया गया

    1930 में वे गांधी जी के सविनय अवज्ञा आंदोलन से जुड़े और लोगों को सरकार को भू-राजस्व और करों का भुगतान न करने के लिए प्रेरित करने के जुर्म मे उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और ढाई साल के लिए जेल भेज दिया गया।

    1939 में दूसरे विश्व युद्ध के दौरान सन् 1940 में कांग्रेस द्वारा चलाए गए आजादी कि मांग करने के लिए “एक जन आंदोलन” में गिरफ्तार कर लिया गया और एक साल के बाद रिहा किया गया।

    8 अगस्त 1942 को गांधीजी द्वारा चलाए गए भारत छोड़ो आंदोलन में उन्होंने सक्रिय रूप से भाग लिया। इसी दौरान वह भूमिगत हो गए पर बाद में गिरफ्तार कर लिए और फिर 1945 में दूसरे बड़े नेताओं के साथ उन्हें भी रिहा कर दिया गया।

    उन्होंने 1946 में प्रांतीय चुनावों के दौरान पंडित गोविन्द वल्लभ पंत उनकी कड़ी मेहनत से काफी प्रभावित हुए और उनकी क्षमता को देखते हुए गोविन्द वल्लभ पंत जब उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री बने तो उन्होंने लाल बहादुर को संसदीय सचिव के रूप में नियुक्त किया।

    यहाँ पढ़े: International Peace Day 2020: 02 अक्टूबर को क्यों मनाया जाता है विश्व शांति दिवस, जानिए इस बार की थीम

    कैसें मिली “शास्त्री” की उपाधि

    जेल से रिहा होने के बाद काशी विद्यापीठ में 4 साल दर्शनशास्त्र की पढाई करने के बाद वर्ष 1926 में उन्होने वहां से “शास्त्री” की उपाधि हासिल की। और शास्त्री की उपाधि मिलने के बाद उन्होंने अपने नाम से जुड़ा जातिसूचक शब्द श्रीवास्तव सदा-सदा के लिये विस्थापित कर और अपने नाम के साथ 'शास्त्री' लगा लिया।

    शास्त्री की उपाधि प्राप्त करने के बाद वे “The Servant of the people” socity से जुड़ गए जिसकी शुरुआत 1921 में लाला लाजपत राय द्वारा की गयी थी। इस सोसाइटी का प्रमुख उद्देश्य उन युवाओं को प्रशिक्षित करना था जो अपना जीवन देश की सेवा में समर्पित करने के लिए तैयार थे।

    विवाह और संताने
    1928 में लाल बहादुर शास्त्री का विवाह काफी साधारण तरीके से ललिता देवी के साथ हुआ। ससुराल वालों के आग्रह पर उन्होंने दहेज के रूप में चरखा और कुछ खादी का कपड़ा लिया। तथा उनकी कुल उनके 6 सन्तानें हुईं, जिनमें से दो पुत्रियाँ थी (कुसुम व सुमन) और चार पुत्र-हरिकृष्ण, अनिल, सुनील व अशोक।

    शास्त्री जी का राजनीतिक जीवन

    साल 1947 में शास्त्रीजी पंतजी के मंत्रिमंडल में पुलिस और परिवहन मंत्री बने।

    भारत के गणराज्य बनने के बाद जब पहले आम चुनाव आयोजित किये गए तब लाल बहादुर शास्त्री कांग्रेस पार्टी के महासचिव थे। कांग्रेस पार्टी ने भारी बहुमत के साथ चुनाव जीता।

    1952 में जवाहरलाल नेहरू द्वारा लाल बहादुर शास्त्री जी को केंद्रीय मंत्रिमंडल में रेलवे और परिवहन मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया। 1956 में एक रेल दुर्घटना होने पर लाल बहादुर शास्त्री ने उसकी नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया।

    अगले आम चुनावों में जब कांग्रेस ने दुबारा चुनाव जीता तब लाल बहादुर शास्त्री जी को परिवहन और संचार मंत्री और बाद में उन्हे वाणिज्य और उद्द्योग मंत्री के रूप में चुना गया।

    वर्ष 1961 में गोविन्द वल्लभ पंत की मृत्यु होने के बाद वे गृह मंत्री बने।

    सन 1962 में भारत-चीन युद्ध के दौरान शास्त्री जी ने देश की आतंरिक सुरक्षा को बरकरार रखा।

    यहाँ पढ़े: नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जयंती 2020: जानिए Netaji Subhash Chandra Bose की Biography

    भारत के दूसरें प्रधानमंत्री के रूप में

    1964 में जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु के बाद सबके मत से लाल बहादुर शास्त्रीजी को भारत के दुसरे प्रधान मंत्री के रूप में चुना गया।

    यह एक कठिन समय था क्योंकि उस समय देश के सामने बड़ी चुनौतियां थी। देश में खाद्यान की खासा कमी हो गई थी और पाकिस्तान सुरक्षा के मोर्चे पर समस्या बन चुका था।

    और इसके बाद ही 1965 में पाकिस्तान ने भारत पर हमला कर दिया। इस मौकें पर लाल बहादुर शास्त्री जी की सूझबूझ और चतुरता भरा नेतृत्व आज भी याद किया जाता है।

    भारत-पाकिस्तान युद्ध और भुखमरी
    भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान देश में भुखमरी और अकाल पड़ा, देश पहले से ही खाद्यान्न की कमी से जूझ रहा था ऐसे में अमेरिका द्वारा भी निर्यात रोकने की धमकी दे दी गई थी। जिसके बाद उन्होंने भारत को खाद्यान्न के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए तथा उस समय जवानों और किसानों का उत्साह बढ़ाने के लिए उन्होंने “जय जवान, जय किसान” का नारा दिया।

    और शास्त्री जी ने सभी देशवासियों से अपील की कि वे हफ्ते में एक दिन उपवास रखें। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि कल से उनके घर एक हफ्ते तक शाम का चूल्हा नहीं जलेगा। देशवासियों ने भी शास्त्री जी के अनुरोध का पालन किया और हफ्ते में एक दिन व्रत रखा तथा इस संकट के दौरान शास्त्री जी ने भी तनख्वाह लेना भी बंद कर दिया।

    और उनके प्रशंसनीय नेतृत्व की मदद से पाकिस्तान को युद्ध में हार का सामना करना पड़ा।

    शास्त्री जी की मौत का रहस्य:

    भारत और पाकिस्तान के बीच शांति वार्ता के लिए जनवरी 1966 में ताशकंद में लाल बहादुर शास्त्री और अयूब खान के बीच शान्ति वार्ता हुई। और रूसी मध्यस्थता के बाद भारत और पाकिस्तान ने संयुक्त घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किए।

    भारत-पाक के बीच हुई इस संधि के तहत भारत ने युद्ध के दौरान कब्ज़ा किये गए सभी प्रांतो को पाकिस्तान को लौटा दिया।

    परंतु शास्त्री जी युद्ध में पाकिस्तान के जीते इलाकों को उसे लौटाना नहीं चाहते थे। अंतर्राष्ट्रीय दवाब में आकर उन्हें इस समझौते पर हस्ताक्षर करना पड़ा लेकिन लाल बहादुर शास्त्री जी ने खुद प्रधानमंत्री कार्यकाल (PMO) में इस जमीन को वापस करने से साफ़ मना कर दिया।

    जिस दिन इस संधि पर हस्ताक्षर किये गए उसी रात 11 जनवरी 1966 को उनका निधन हो गया और मृत्यु का कारण दिल का दौरा पड़ना बताया गया।

    उनकी मृत्यु आज भी एक साजिश के रूप में देखी जाती है और लोग आज भी उनकी मौत के रहस्य के बारे में जानना चाहते हैं परंतु कई आरटीआई (Right to Information) लगाए जाने के बाद भी अभी तक उनकी मृत्यु की कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिल पाई है।

    विकिपीडिया पर जुड़े कुछ अन्य वेबसाइटों पर प्रकाशित लेखों में उन्हें जहर देकर मारने एवम् उनकी मौत के दस्तावेजों के सामने आने पर अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध खराब होने तथा इस रहस्य से पर्दा उठने पर देश में उथल-पुथल जैसी स्थितियों के उत्पन्न होने की संभावनाएं जाहिर की गयी है।

    यहाँ पढ़े: गांधी जयंती 2020: 2 अक्टूबर को ही क्यों मनाई जाती है Gandhi Jayanti, जानिए बापू से जुड़ी रोचक बातें

    Lal Bahadur Shashtri Quotes 2020: श्री लाल बहादुर शास्त्री के बेहतरीन कोट्स (प्रेरक प्रसंग)

    • Quote #1
      हमारी ताकत और मजबूती के लिए सबसे जरूरी काम है,
      लोगो में एकता स्थापित करना।

      - लालबहादुर शास्त्री

    • Quote #2
      देश की तरक्की के लिए हमे आपस में लड़ने की बजाय
      गरीबी, बीमारी और अज्ञानता से लड़ना होगा।

      - लालबहादुर शास्त्री

    • Quote #3
      हमारी ताकत और मजबूती के लिए सबसे जरूरी काम है लोगो में एकता स्थापित करना।

      - लाल बहादुर शास्त्री

    • Quote #4
      हम खुद के के लिए ही नही बल्कि पूरे विश्व की शांति, विकास और कल्याण में विश्वास रखते हैं।

      - लाल बहादुर शास्त्री

    • Quote #5
      यदि कोई भी व्यक्ति हमारे देश में अछूत कहा जाता है तो भारत को अपना सिर शर्म से झुकाना पड़ेगा।

      - लाल बहादुर शास्त्री

    • Quote #6
      जो शासन करते हैं उन्‍हें देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं. अंतत: जनता ही मुखिया होती है।

      - लाल बहादुर शास्त्री

    • Quote #7
      देश के प्रति निष्ठा सभी निष्ठाओं से पहले आती है,
      और यह पूर्ण निष्ठा है क्योंकि
      इसमें कोई प्रतीक्षा नहीं कर सकता की बदले में उसे क्या मिलता हैं।

      - लाल बहादुर शास्त्री

    यहाँ पढ़े: {फोटो} गाँधी जी के प्रेरणादायक विचार

    लाल बहादुर शास्त्री जी से जुडी प्रश्नोत्तरी | FAQs Related Shastri

    लाल बहादुर शास्त्री का पूरा नाम क्या था?

    लाल बहादुर का पूरा नाम लाल बहादुर शास्त्री था। हालंकि पहले उनका नाम लाल बहादुर श्रीवास्तव था परंतु काशी विद्यापीठ से संस्कृत में स्नातक करने के बाद उन्हें 'शास्त्री' की उपाधि मिली और उन्होंने अपने नाम से जाति को हटाकर अपनी उपाधि को जोड़ लिया। अधिक पढ़े


    लाल बहादुर शास्त्री जी की समाधि स्थल कहाँ स्थित है?

    शास्त्री जी की समाधि स्थल दिल्ली में नेहरू जी की समाधि (शांतिवन) के आगे यमुना नदी के किनारे विजय घाट के रूप में स्थित है।


    लाल बहादुर शास्त्री के बाद प्रधानमंत्री कौन बना?

    शास्त्री जी की अचानक मृत्यु के बाद गुलजारी लाल नन्दा कार्यवाहक प्रधानमन्त्री रहे और इसके बाद कांग्रेस संसदीय दल द्वारा इन्दिरा गान्धी को शास्त्री जी का विधिवत उत्तराधिकारी चुन लिया गया। और इंदिरा गांधी जी देश की पहली अगली महिला प्रधानमंत्री बनी।


    लाल बहादुर शास्त्री जी ने कौन-कौन से नारे दिए?

    उन्होंने जय जवान-जय किसान, मरो नहीं मारो!, दिल्ली चलो जैसे दिए तथा इसके साथ ही श्वेत एवं हरित क्रांति से भी जुड़े।


    लाल बहादुर शास्त्री जी को भारत रत्न कब मिला?

    शास्त्री जी को उनकी सादगी, देशभक्ति और ईमानदारी के लिए मरणोपरांत वर्ष 1966 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।


    अंतिम शब्द

    दोस्तों अब तो आप लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती कब और क्यों मनाई जाती है तथा Lal Bahadur Shastri जी से जुड़े कई अन्य बातों के बारे में भी जान गए होंगे।

    अगर आपको लाल बहादुर शास्त्री के बारे में (Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi) की यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भी जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इस तरह की महत्वपूर्ण जानकारी पता चल सके।

    The End
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer