शौर्य दिवस 6 दिसंबर 2019: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास

    शौर्य दिवस 6 दिसंबर 2019: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है, जानिए इतिहास

    Shaurya Diwas 6 December 2019 Hindi: विश्व हिंदू परिषद (VHP) द्वारा इस बार 6 दिसंबर को शौर्य दिवस नहीं मनाने का फैसला लिया गया है, राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास द्वारा शनिवार को की गई अपील के बाद विश्व हिंदू परिषद ने यह निर्णय लिया है, गोपाल नृत्य गोपाल दास द्वारा कहा गया था कि ऐसा कोई भी आयोजन हो जिससे देश में या राज्य में तनाव की स्थिति पैदा हो, उन्होंने यह भी कहा कि इस बार लोगों के बीच सद्भाव बनाए रखने के लिए कार्यक्रम करने के प्रयास किए जाएंगे.
    Shaurya Diwas 6 December 2019 Information in Hindi Vishva Hindu Parishd Photo Pic
    Shaurya Diwas 6 December 2019 Information in Hindi Vishva Hindu Parishd Photo Pic
    आइए अब आपको बताते हैं कि 6 दिसंबर को शौर्य दिवस और काला दिवस क्यों मनाया जाता है, इस बार 6 दिसंबर २०१९ को शौर्य दिवस क्यों नहीं बनाया जा रहा.

    शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है:

    पिछले 27 सालों से 6 दिसंबर का दिन अयोध्या में काफी खास होता है यही वह दिन है जब साल 1992 में बाबरी मस्जिद (जिसे विवादित ढांचे के नाम से जाना जाता है) को हिन्दू कार सेवकों द्वारा ढहा दिया गया था. शौर्य दिवस हर साल 6 दिसंबर को विश्व हिंदू परिषद द्वारा मनाया जाता है, शौर्य दिवस मनाए जाने का मुख्य कारण अयोध्या में 6 दिसंबर को विवादित ढांचा गिराया जाना है इस दिन की खुशी जाहिर करने के लिए हिंदुओं द्वारा इसे शौर्य दिवस के रूप में मनाया जाता है,

    परंतु मुसलमान इसका विरोध करते हुए इसे ‘योमे-गम’ यानी शोक दिवस या काला दिवस मना कर अपना रोष प्रकट करते हैं.

    जहां हिंदुओं द्वारा विभिन्न कार्यक्रम और जुलूसों का आयोजन किया जाता हैं तो वही मुसलमानों द्वारा किसी एक जगह पर इकट्ठे होकर शोक मनाया जाता है.

    दोस्तों अब तो आप समझ ही गए होंगे कि शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, तथा काला दिवस क्यों मनाते हैं यह भी आपने जाने लिया है. आइए अब आपको बताते हैं कि इस साल विश्व शौर्य दिवस क्यों नहीं मनाया जा रहा.

    क्यों नहीं मनाया जा रहा है इस बार शौर्य दिवस:

    विश्व हिंदू परिषद के प्रदेश प्रवक्ता शरद शर्मा की माने तो उनका यह कहना है कि यह कार्यक्रम संतो के निर्देश पर ही आयोजित किया जाता था और इस बार संतों ने इस दिवस को ना मनाए जाने का निर्देश दिया है. इसलिए संतो के निर्देश का पालन होगा और और अब जब राम मंदिर के पक्ष में फैसला आ गया है तो शौर्य दिवस जैसे आयोजन की कोई आवश्यकता नहीं है, उनकी मानें तो मंदिर निर्माण कार्य समाप्त होने के बाद ही कुछ होगा.

    वहीं श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास द्वारा संपूर्ण देश में शांति बनाए रखने की अपील की गई और 6 दिसंबर को किसी भी कार्यक्रम को ना किए जाने के लिए कहा गया उनका कहना है कि, जिस तरह सभी देशवासियों ने साथ मिलकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का शांति ढंग से स्वागत किया और विश्व में शांति संदेश दिया उसी तरह आने वाले 6 दिसंबर को भी किसी भी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रम का आयोजन ना करते हुए हम तनाव का माहौल पैदा नहीं होने देंगे.

    वैसे तो अयोध्या जिला में पिछले 1 महीने से धारा 144 लागू है परंतु अयोध्या में जिला प्रशासन किसी भी तरह के अनहोनी को रोकने के लिए पूरी तरह से तैयार है, इसीलिए अयोध्या जिला अधिकारी अनुज कुमार झा द्वारा यह साफ कहा गया है कि धारा 144 का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए.

    हम आपको बता दें कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद और राम जन्म भूमि का विवाद करीब 70 सालों से चल रहा था जिसे सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों के संवैधानिक पीठ ने विवादित जमीन को रामलला को सौंपी है, और अयोध्या में किसी और जगह मुस्लिम पक्ष को मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन देने का सरकार को निर्देश दिया गया है.

    और मंदिर निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से 3 महीने के अंदर एक ट्रस्ट का निर्माण करने के लिए भी कहा है.

    अंतिम शब्द | Summary

    दोस्तों अब तो आप समझ ही गए होंगे कि विश्व शौर्य दिवस या काला दिवस 6 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है और इस दिन को इस बार ६ दिसम्बर २०१९ को क्यों नहीं मनाया जा रहा है. हालांकि विश्व हिंदू परिषद के प्रदेश प्रवक्ता शरद शर्मा का कहना है कि इस दिन को कोई कार्यक्रम तो आयोजित नहीं किए जाएंगे लेकिन मंदिर मठों और घरों में दीपक जलाए जाएंगे.

    अगर आपको शौर्य दिवस क्या है के बारे में यह जानकारी (Shaurya Diwas Information in Hindi) useful लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.
    ---------यह भी पढ़े:----------
    शौर्य दिवस 6 दिसंबर 2019: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास शौर्य दिवस 6 दिसंबर 2019: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास Reviewed by Sandeep Kumar on Friday, December 06, 2019 Rating: 5

    शौर्य दिवस 6 दिसंबर 2019: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास, Shaurya Diwas 6 December 2019 Information in Hindi Vishva Hindu Parishd Photo Pic, काला दिवस

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer