-->

G-20 शिखर सम्मेलन 2020: कब और कहाँ होगा? जानिए उद्देश्य और इसमें शामिल सभी देश

    Advertisement

    G-20 Riyadh Summit in Hindi: क्या है जी20 शिखर सम्मेलन, 2020 में कब होगा? जानिए क्या है उद्देश्य और Theme

    G20 Shikhar Sammelan 2020: चीन से निकले कोरोना वायरस ने भारत समेत दुनियाभर को अपने कब्जे में किया हुआ है परन्तु अब चाइना ने COVID-19 पर पूरी तरह से काबू पा लिया है और China में जिंदगी पटरी पर आती दिखाई दे रही है परन्तु पिछले करीबन 6 महीने में दुनियाभर की अर्थव्यवस्था पर गहरा असर पड़ा है ऐसे में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping) इस महामारी (कोविड-19) से मुकाबला करने के लिए 26 मार्च को जी20 के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेना था।


    जी 20 शिखर सम्मेलन 2020 में कब और कहाँ होगा?

    2020 में 15वां G20 शिखर सम्मेलन 21-22 नवम्बर को साउदी अरब की राजधानी रियाध (Riyadh) शहर में होगा, जिसकी Theme 'Realizing Opportunities of the 21st Century for All' है। इसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हिस्सा लेंगे।


    साथ ही जी20 Members और G20 Country के प्रधान भी इस सम्मेलन का हिस्सा होंगे। Corona Virus के चलते यह विशेष जी20 शिखर सम्मेलन इस बार ऑडियो शिखर सम्मेलन के रूप में आयोजित होगा।

    आपको बता दें कि कोविड-19 से वैश्विक अर्थव्यवस्था को बड़ी छति हुई है। और अब जब चीन ने इस महामारी पर काबू पा लिया है तो वह अपने प्रोडक्शन को भी तेजी से शुरू करने की कोशिश कर रहा है।

    G20 Summit 2020 In Hindi Shikhar Sammelan Kya Hai
    G20 Summit 2020 In Hindi Shikhar Sammelan Kya Hai

    जी 20 शिखर सम्मेलन क्या है? | About G-20 Summit in Hindi:

    26 सितंबर 1999 को स्थापित G-20 बीस देशों का एक समूह (Group) है जिसमें 19 देश और 20वां यूरोपीय संघ शामिल है। और इसका नाम इसके सदस्यों की संख्या के आधार पर ही रखा गया है जो 20 है और G का मतलब Group है। इसकी स्थापना मुख्य रूप से अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग और वैश्विक अर्थव्यवस्था (Global Economy) के मामलों और मुद्दों पर चर्चा करने के उद्देश्य से की गई थी।


    तो वहीं G-20 में शामिल इन 20 देशों के नेताओं की बैठक को जी20 शिखर सम्मेलन के रूप में जाना जाता है इसका आयोजन हर वर्ष विभिन्न देशों में किया जाता है।

    आपको बता दें कि G-20 Summit Countries के प्रधान ही नहीं बल्कि वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर्स भी बैठक करते है।


    G-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन आखिरी बार जून 2019 में जापान के ओसाका शहर में हुआ था। भारत की तरफ से इसका नेतृत्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा किया गया था।


    यह भी पढ़ें 👉 कोरोना वायरस क्या है? जानिए Coronavirus के लक्षण इससे बचने के उपाय

    जी-20 का उद्देश्य है | क्यों बनाया गया है यह समूह:

    जी-20 का मुख्य उद्देश्य विश्व के वैश्विक और आर्थिक मुद्दों पर विचार विमर्श और चर्चा करना है, जहाँ 20 देश प्रमुख मुद्दों पर अपनी राय साझा करते हैं। यहाँ मुख्य रूप से औद्योगिक और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को लेकर बातचीत होती है। इसके साथ ही विश्व की अर्थव्यवस्था में स्थिरता और सतत विकास के लिए भी नई नीति बनाई जाती है।

    2020 में यह सम्मेलन लगभग 7-8 महीनें पहले किया जा रहा है जिसका कारण कोरोना की वजह से उत्त्पन्न हुए मौजूदा वित्तीय संकटों को निपटना और आने वाले वित्तीय संकटों के समाधान पर विचार करना और योजना बनाना है।


    दुनिया में मौजूद सभी में से केवल G-20 सदस्य देशों की दुनिया की जीडीपी में 85 फीसदी हिस्सेदारी हैं। साथ ही वैश्विक व्यापार में भी 80 फीसदी की हिस्सेदारी इन देशों की ही है।


    यह भी पढ़ें 👉 Lockdown Meaning in Hindi: लॉक डाउन का क्या मतलब है?

    ये हैं जी-20 के सदस्य देश | G20 Member Countries List:

    जी-20 संगठन के सदस्य देशों के नाम की लिस्ट:-
    1. अमरीका,
    2. अर्जेंटीना,
    3. ऑस्ट्रेलिया,
    4. ब्राजील,
    5. कनाडा,
    6. चीन,
    7. फ्रांस,
    8. जर्मनी,
    9. भारत,
    10. इंडोनेशिया,
    11. इटली,
    12. जापान,
    13. मैक्सिको,
    14. रूस,
    15. सऊदी अरब,
    16. दक्षिण अफ्रीका,
    17. दक्षिण कोरिया,
    18. तुर्की,
    19. यूनाइटेड किंगडम और
    20. यूरोपीय संघ।

    नोट: जी20 के अध्यक्ष द्वारा हर साल आसियान देशों के अध्यक्ष और एक देश को भी आमंत्रित किया जाता है तो वहीं स्पेन एक स्थायी अतिथि है।


    यह भी पढ़ें 👉 Hanta Virus in Hindi: क्या है China का हंता वायरस - पूरी जानकारी

    जी20 का इतिहास: G7 से G20 तक

    जैसा की हमने आपको पहले ही बताया की इसका नाम इसके सदस्यों की संख्या पर रखा गया है इसलिए जब इसकी शुरुआत हुई तो इसमें केवल 7 ही सदस्य थे इसलिए उस समय इसे G7 कहा जाता था उस समय इसमें सात शक्तिशाली देश फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन, अमरीका और कनाडा शामिल थे।


    परंतु साल 1998 में इस समूह में रूस को भी शामिल किया गया जिसके बाद इसे G7 की बजाए G8 कहा जाने लगा। परंतु रूस ज्यादा समय तक इस ग्रुप का हिस्सा नहीं रह सका और वर्ष 2014 में रूस को इससे हटा दिया गया। जिसके बाद यह पुनः G7 हो गया।


    G-20 सम्मेलन: सन 1999 में G8 सदस्य देशों की जर्मनी के कोलोन में हुई बैठक के दौरान एशिया के आर्थिक संकटों के विषय में चर्चा की गई, और इन 20 देशों को भी इसमें शमिल किया गया, जिसके बाद दिसंबर 1999 मे पहली बार बर्लिन में G20 समूह की बैठक हुई। और 14-15 नवम्बर 2008 में वाशिंगटन डीसी (संयुक्त राष्ट्र अमेरिका) में पहला G20 शिखर सम्मेलन का आयोजन किया गया।


    G20 शिखर सम्मेलन भारत में कब होगा?

    G20 शिखर सम्मेलन भारत में अब तक एक भी बार आयोजित नहीं किया गया है, परन्तु साल 2022 में भारत की राजधानी नई दिल्ली में इसका आयोजन किया जा सकता है। आज देश और दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में कोरोना का संकट है और भारत समेत कई देशों की GDP {(Gross Domestic Product) जिसे हिंदी में सकल घरेलु उत्पाद कहा जाता है} तेजी से गिर रही है ऐसे में भारत और कई देशों में आर्थिक संकट आ सकता है।


    फ्रेंड्स अगर आपको G20 Shikhar Sammelan 2020 की यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भी जरूर शेयर करें।

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer