वेंटिलेटर क्या है? जानिए इसका उपयोग और कोरोना मरीजों के लिए इसकी ज़रूरत

    ICU Ventilator Meaning in Hindi: वेंटिलेटर क्या है जानिए इसका उपयोग और कोरोना मरीजों के लिए इसकी ज़रूरत

    Ventilator For Corona in Hindi: दोस्तों आज भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि COVID-19 के मरीज को सांस लेने में तकलीफ होने के साथ-साथ और भी कई दिक्कतों का सामना करना होता है, ऐसे में मरीज अगर उसकी हालत अगर ज्यादा नाजुक है तो उसे वेंटिलेटर मशीन की जरूरत पड़ सकती है।


    ज्यादातर देशों से वेंटिलेटर की कमी (Shortage of Ventilator in India) की खबरे सबसे ज्यादा आ रही है ऐसे में आपको रेस्पिरेटर के बारे में जानकारी नहीं है तो आपको कोरोना के चलते इसके बारे में जरूर जान लेना चाहिए।


    ventilator machine photo

    आज के इस लेख में हम आपको Ventilator Machine क्या होती है तथा मशीन के प्रकार और यह कैसे काम करता है उसके बारे में बताने जा रहे हैं आपको इसकी कीमत (Price/Cost) तथा India में इसकी Shortage और इसके नुकसान की जानकारी भी आपको आगे इस लेख में पढने को मिलेंगी।


    What is Ventilator Machine in Hindi | क्या होता है वेंटिलेटर

    Ventilator एक तरह का Breathing Machine या रेस्पिरेटर होता है यह मैकेनिकल वेंटीलेटर के नाम से जानी जाने वाली एक ऐसी मशीन होती है जो किसी भी बीमार व्यक्ति को सांस लेने में मदद करने का काम करती है वेंटिलेटर की आवश्यकता उस समय पड़ती है जब कोई व्यक्ति Serious हालत में होता है और सास नहीं ले पाता। ऐसी हालत में मरीज़ की श्वसन नली तक कृत्रिम श्वास पहुंचाने के लिए उसके मुख (एंडोट्रैचियल ट्यूब), नाक या गले (एक ट्रेकियोस्टोमी ट्यूब) के माध्यम से एक् ट्यूब डाली जाती है।


    Ventilator Meaning in Hindi: श्वसनयंत्र या फेफड़ों के कृत्रिम श्वसन के लिए उपयोग में लाया जाने वाला एक यंत्र अथवा उपकरण।


    वेंटीलेटर बिजली से चलने वाला उपकरण है जिस पर मरीजों को आर्टिफिशियल सांस दिलाई जाती है इसमें ऑक्सीजन के सिलेंडर, मोटर और कंप्रेसर लगे होते हैं और नलियों के जरिए यह ओक्सीजन श्वसन तंत्र तक पहुंचाई जाती हैं जिसकी मदद से व्यक्ति के शरीर में ऑक्सीजन का संचार होता है।


    यह भी पढ़ें 👉 कोरोना वायरस क्या है? जानिए Coronavirus के लक्षण इससे बचने के उपाय तथा इलाज

    वेंटिलेटर के प्रकार – Types of Ventilator in hindi
    यह मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं नेगेटिव प्रेशर वेंटीलेटर और पॉजिटिव प्रेशर वेंटीलेटर:


  • निगेटिव प्रेशर वेंटिलेटर (Extrathorasic) – इसे ऐसे मरीज पर इस्तेमाल किया जाता है जिनके फैफड़ो में आयरन जमा हो जाती है उनकी छाती (Chest) पर इसे लगाते हैं जिससे छाती उठ जाती है और इसके परिणामस्वरूप मरीज़ सांस अंदर ले पाता है।

  • पॉजिटिव प्रेशर वेंटिलेटर (Intra Pulmonary Pressure) – यह एक पॉजिटिव प्रेशर बनाता है जिससे हवा मरीज के फेफड़ों की ओर धकेली जाती है और इंट्रा-पल्मोनरी प्रेशर या दबाव बढ़ जाता है। पॉजिटिव प्रेशर वेंटिलेटर तीन प्रकार के होते हैं:वॉल्यूम साइकिल्ड, प्रेशर साइकिल्ड और टाइम साइकिल्ड।

  • वेंटिलेशन मशीन ऐसे किसी Patient के लिए जरूरी हो सकती है जो निमोनिया या श्वसन रोग तथा हृदय रोग एवं कई विभिन्न सीरियस प्रॉब्लम का सामना कर रहे हैं। Noval Corona Virus से संक्रमित मरीज की स्थिति के अनुसार ही उसे वेंटीलेशन मिशन पर रखा जाता है।


    वेंटिलेटर का काम | What does Ventilator work

    Respirator का इस्तेमाल मुख्य रूप से हॉस्पिटल्स के आईसीयू रूम में किया जाता है आइए अब आपको Breathing Machine के क्या काम होते हैं इसके बारे में विस्तार से बताते हैं:

    • वेंटिलेटर का इस्तेमाल मरीज के फेफड़ो तक ऑक्सीजन का संचार करती है।

    • फेफड़ों से कार्बन डाइऑक्साइड को वापस लेती है।

    • सांस लेने में तकलीफ होने पर यह रोगी को सहजता से सांस लेने में मदद करती है।

    • खुद सांस ना ले पाने वाले लोगो के लिए सांस लेना संभव बनाता हैं।

    • साथ ही यह उस समय भी काम आता है जब किसी व्यक्ति की सर्जरी या फिर ऑपरेशन आदि किया जा रहा हो, तो वहीं मरीजों को ऑपरेशन करने के बाद भी कुछ समय के लिए वेंटीलेटर पर रखा जा सकता है।

    • साथ ही वेंटिलेटर का इस्तेमाल श्वसनतंत्र से जुड़ी बीमारी और कई दूसरे मरीजों के लिए भी किया जाता है।

    यह भी पढ़ें 👉 Lockdown Meaning in Hindi: लॉक डाउन का क्या मतलब है?

    कब किया जाता है वेंटिलेटर का इस्तेमाल | When is Ventilator is used

    • सांस लेने में दिक्कत या सांस लेना बंद होना: किसी भी मरीज को तभी वेंटीलेटर पर ले जाया जाता है जब वह सांस लेना बंद कर दे या स्वतः सांस ना ले सके।

    • फेफड़े ने काम काम करना बंद कर दिया हो या फिर सांस मरीज के फेफड़ों तक ना पहुंच पा रही हो।

    • शरीर में ऑक्सीजन का सर्कुलेशन ठीक प्रकार या पूरी तरह से ना हो पा रहा हो।

    • वेंटिलेटर की आवश्यकता उन लोगों को भी हो सकती है जो हाल ही में सर्जरी और ऑपरेशन तथा अर्ध बेहोशी एवं दौरा पड़ने की हालत या स्थिति से गुजर रहे हैं।

    • अगर कोई मरीज अंतिम सांसे ले रहा हो या फिर काफी गंभीर अवस्था में हो।

    यह भी पढ़ें 👉 घर में खाली समय में क्या करें - टाइम पास कैसे करें

    वेंटिलेटर की कमी | Ventilator Shortage in India

    भारत में रेस्पिरेटर की संख्या काफी कम है ऐसे में COVID-19 से लड़ने के लिए देश में 40000 वेंटिलेटर का इंतजाम किया जा रहा है ताकि सीरियस मरीजों को श्वसन मशीन की कमी से मौत के मुंह में ना जाना पड़े।


    COVID-19 रोगियों में सांस की बीमारी या दिक्कत होने के कारण Breathing Machine की आवश्यता पड़ सकती है, लेकिन ऐसा देखा गया है की सभी ज्ञात मामलों में से लगभग 5% मामलों को ही इस उपकरण पर निर्भर रहना पड़ता है।


    वेंटिलेटर के नुकसान | Risk involved in Ventilator

    दोस्तों वेंटिलेटर साँस की बीमारियों से राहत के साथ-साथ दूसरी बीमारियां होने का खतरा बना रहता है, डॉक्टरों को मरीज को वेंटीलेटर पर तब तक नहीं रखना चाहिए जब तक मरीज की हालत गंभीर ना हो ऐसा इसलिए क्योंकि एक रिपोर्ट में यह निकलकर आया है कि ब्रीदिंग मशीन पर जाने वाले मरीजों में संक्रमण से होने वाली बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।


    वेंटिलेटर के कारण वेंटिलेटर एसोसिएटेड निमोनिया (Ventilator Associated Pneumonia) होने का खतरा सबसे ज्यादा होता है।


    वेंटिलेशन मशीन पर होने के कारण बीमार व्यक्ति सामान्य सांस नहीं ले पाता जिसके कारण नली के जरिए बैक्टीरिया फैफडों तक जा सकते है और यह बाद में फेफड़ों को प्रभावित करते है।


    इसके साथ ही वेंटीलेशन मरीज को ऑक्सीजन ज्यादा दबाव से दिए जाने के कारण उनके फेफड़े फूल भी सकते हैं।


    वेंटीलेटर पर सांस लेने या इलाज कराने वाले मरीजों में से करीबन 2.7 प्रतिशत मरीजों को ग्यावारी सिन्ड्रोम नाम की बीमारी हो जाती है जिसके कारण उनके शरीर का एक हिस्सा संवेदनशीलता खो देता है।


    यह भी पढ़ें 👉 Corona Kavach App Free Download Apk: कोरोना Check करने वाला एप्प

    वेंटिलेटर की कीमत | Ventilator Price/Cost in India

    Ventilator की फीस किसी भी अस्पताल में अलग-अलग हो सकती है लेकिन आम तौर पर इसकी एक दिन की फीस 4000 से ₹10000 के बीच हो सकती है।


    साथ ही एक मध्यम स्तर के वेंटिलेटर की कीमत लगभग 4 लाख 75 हजार रुपए के करीब हो सकती है। तो वहीं मध्यम स्तर के आयातित वेंटिलेटर की Cost लगभग 7 लाख रुपये होती हैं और एक हाई क्वालिटी के आयातित वेंटिलेटर का Price लगभग 12 लाख रुपये हो सकता है।


    अन्तिम शब्द

    यहाँ आपने वेंटीलेशन मशीन क्या होता है यह क्या काम करता है और इसकी Cost या Price क्या है यह भी जान लिया होगा। और कोरोना वायरस से लड़ने के लिए यह किस प्रकार से मददगार साबित हो सकता इसकी जानकारी भी आपको मिल गयी है।

    अगर आपको ICU Ventilator Meaning in Hindi और Shortage of Ventilator in India की यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सअप्प पर भी जरूर शेयर करें।

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer