-->

All India RTO State Codes List (Vehicle Registration)

All India RTO Code List: गाड़ी की नंबर प्लेट को संबंधित राज्यों या केंद्र शासित प्रदेश के जिला-स्तरीय क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयद्वारा जारी किया जाता है आइये इसके बारें में विस्तार से जानते है...

    All India RTO Codes List (Vehicle Registration in States & union territories)

    All India RTO Codes List: गाड़ी की नंबर प्लेट को संबंधित राज्यों या केंद्र शासित प्रदेश के जिला-स्तरीय क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) द्वारा जारी किया जाता है। भारत में सभी मोटर चालित सड़क वाहनों का रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है। नए भारतीय वाहन नंबर प्लेट डिजाइन के अनुसार इसके शुरू के दो अक्षर राज्य के लिए निर्दिष्ट हैं और फिर दो नंबर जिला स्तर या स्थानीय RTO कार्यालयों के लिए हैं।

    आरटीओ कोड से गाड़ी के जिले या शहर का पता लगाया जा सकता है किसी भी गाड़ी के लिए यह बहुत ही जरूरी होता है। आज के इस लेख में हम भारत के सभी राज्यों के Code को आपके साथ साझा करने जा रहे है।

    Vehicle Registration RTO State Codes List
    Vehicle Registration RTO State Codes List

    आरटीओ क्या होता है? RTO का क्या काम होता है?

    आरटीओ की फुल फॉर्म रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस है यह भारत सरकार का एक अंग है जो विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में transport department के अंतर्गत उस राज्य के विभिन्न जिलों एवं शहरों के लिए लाइसेंस जारी करने गाड़ी का पंजीकरण करने परमिट जारी करने एवं टैक्स एकत्रित करने आदि का काम करते हैं।

    यह Registering Authority है जिसका मूल संगठन सड़क परिवहन और राज्य मार्ग मंत्रालय है।


    RTO का क्या काम होता है:

    देश भर में आरटीओ का काम है राज्यों के विभिन्न जिलों में:
    • लाइसेंस जारी करना,
    • गाड़ी का रजिस्ट्रेशन करना,
    • परमिट जारी करना,
    • वाहन प्रदूषण को नियंत्रित करना,
    • सड़क कर संग्रह करना,
    • परिवहन संबंधी पहलुओं का नीति-निर्माण,
    • समन्वय, कार्यान्वयन, निगरानी और नियामक आदि कार्यों के लिए भी जिम्मेदार है।

    All India RTO Codes For Vehicle Registration

    आप State code से राज्य का और इसके बाद के 2 नम्बरों को देखकर आसानी से यह बता सकते हैं कि गाड़ी किस डिस्ट्रिक्ट या शहर की है आरटीओ कोड स्टेट नेम के बाद 2 अंकों का नंबर होता है जो विभिन्न राज्यों के लिए उसके RTO क्षेत्र की जानकारी देता है।

    वाहन के पंजीकरण हेतु भारत के विभिन्न राज्यों के लिए अलग-अलग स्टेट कोड जारी किए गए है यह State Code 2 अक्षरों का होता है जो राज्य के नाम से शुरू होता है जैसे दिल्ली के लिए DL, यूपी के लिए UP आदि।


    S. No.State/ Union TerriroriesVehicle State Code
    1Andaman and NicobarAN
    2Andhra PradeshAP
    3Arunachal PradeshAR
    4AssamAS
    5BiharBR
    6ChandigarhCH
    7ChhattisgarhCG
    8Dadra and Nagar HaveliDN
    9Daman and DiuDD
    10DelhiDL
    11GoaGA
    12GujaratGJ
    13HaryanaHR
    14Himachal PradeshHP
    15Jammu and KashmirJK
    16KarnatakaKA
    17KeralaKL
    18LakshadweepLD
    19Madhya PradeshMP
    20MaharashtraMH
    21ManipurMN
    22MeghalayaML
    23MizoramMZ
    24NagalandNL
    25OrissaOR
    26PondicherryPY
    27PunjabPN
    28RajasthanRJ
    29SikkimSK
    30TamilNaduTN
    31TelanganaTS
    32TripuraTR
    33Uttar PradeshUP
    34UttarakhndUK/ UA
    35West BengalWB


    Registration Of Vehicles In India (Process and Documents)

    गाड़ी (कार/मोटरसाइकिल अथवा अन्य गैर-वाणिज्यिक वाहन) खरीदने के साथ ही गाड़ी के रजिस्ट्रेशन की सभी औपचारिकता डीलर की ओर से पूरी की जानी चाहिए, जिसके लिए आपको कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना पड़ता है।


    ServicesNew Vehicle Registration
    Application Mode:Online (By Dealer)
    EligibilityAny non commercial vehicle purchased from dealer
    FeesAs Specified in Rule 81
    Application StatusCheck Here
    Website Linkhttps://parivahan.gov.in/

    Vehicle Registarion के लिए कुछ जरूरी डाक्यूमेंट्स की जरूरत पड़ती है जो इस प्रकार है:

    1. Application (form-20).
    2. Sale certificate (form-21).
    3. Form 22 supplied by Dealer.
    4. Valid insurance certificate.
    5. Pollution Under Control Certificate.
    6. Proof of Address.
    7. Passport size photo.
    8. Temporary registration (if done).
    9. Tax & Fees Specified in Rule 81.
    10. Physical production of vehicle (If vehicle purchased in other district)

    follow haxitrick on google news
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post