-->

World Animal Day 2021: विश्व पशु दिवस क्यों मनाया जाता है, इतिहास और महत्व

    WORLD ANIMAL DAY 2021: विश्व पशु दिवस कब, क्यों और कैसें मनाया जाता है, इतिहास और महत्व

    World Animal Day 2021: पृथ्वी पर जीवन बरकरार रखने के लिए जानवरों और मनुष्य के बीच बैलेंस होना काफी जरूरी है अगर ऐसा नहीं होता तो पृथ्वी पर जीवन नामुमकिन है जानवरों का खाद्य श्रृंखला और इको सिस्टम पर काफी ज्यादा प्रभाव पड़ता है इसी से पृथ्वी पर जीवन आज भी जीवित है।

    विश्व पशु दिवस एक ऐसा दिन है जिसमें दुनिया भर के लोग जानवरों की भलाई और अधिकारों के लिए काम करते हैं। यह प्रत्येक वर्ष 4 अक्टूबर को मनाया जाता है, विश्व पशु दिवस का मिशन दुनिया भर के जानवरों के लिए कल्याण मानकों में सुधार करना है और सभी जानवरों के लिए दुनिया को बेहतर जगह बनाने के लिए काम करना है।

    World Animal Day 4 October 2021
    World Animal Day 4 October 2021

    आज के इस पोस्ट में हम आपको वर्ल्ड एनिमल डे के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं और आपको विश्व पशु दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? अंतर्राष्ट्रीय पशु दिवस कैसे मनाया जाता है? और वर्ल्ड एनिमल डे का इतिहास (History) क्या है? इन सभी के बारे में बताने वाले हैं।


    World Animal Day Information in Hindi

    अंतर्राष्ट्रीय पशु दिवस के बारे में जानकारी:
    नाम: विश्व पशु दिवस (World Animal Day)
    शुरूआत: 1929
    तिथि: 04 अक्टूबर
    उद्देश्य: जानवरों पर हो रही क्रूरता एवं अत्याचारों को रोकना एवं पशुओं की भलाई व अधिकारों के प्रति लोगों को जागरुक करना।
    थीम: Forests and Livelihoods: Sustaining People and Planet
    अगली बार: 04 अक्टूबर 2022

    World Animal Day 2021: विश्व पशु दिवस कब मनाया जाता हैं?

    जानवरों पर हो रही क्रूरता एवं अत्याचारों को रोकने के लिए तथा पशुओं की भलाई और अधिकारों के प्रति लोगों को जागरुक करने के मकसद से हर साल अन्तराष्ट्रीय स्तर पर विश्व पशु दिवस (World Animal Day) 4 अक्टूबर को मनाया जाता है।

    इस साल 2021 में वर्ल्ड एनिमल डे, 4 अक्टूबर को Forests and Livelihoods: Sustaining People and Planet थीम के साथ मनाया जा रहा है।


    पहला विश्व पशु दिवस कब मनाया गया था?
    1929 में पहली बार 4 अक्टूबर को विश्व पशु दिवस मनाया गया इसकी शुरुआत जर्मन लेखक और प्रकाशक हेनरिक ज़िमरमन ने जानवरों के कल्याण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के मकसद से की थी।


    विश्व पशु दिवस का इतिहास (World Animal Day History In Hindi)

    24 मार्च, 1925 को, मूल रूप से विश्व पशु दिवस का आयोजन हेनरिक ज़िमरमैन (1887-1942) नामक एक जर्मन द्वारा किया गया था, वे न केवल एक लेखक थे, बल्कि उन्होने एक द्वि-मासिक पत्रिका भी प्रकाशित की। जिसका नाम Mensch und Hund/Man And Dog था, इसे उन्होंने इस पत्रिका को पशु कल्याण पर अपने विचारों को बढ़ावा देने के लिए एक माध्यम के रूप में इस्तेमाल किया और विश्व पशु दिवस समिति की स्थापना के लिए इसका इस्तेमाल किया।

    24 मार्च 1925 में, उनकी समिति ने विश्व पशु दिवस का आयोजन किया। उन्होंने उस समय के पशु कल्याण मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए बर्लिन, जर्मनी के स्पोर्ट्स पैलेस में इसका आयोजन किया और लगभग 5,000 लोगों ने इस पहले कार्यक्रम में हिस्सा लिया। और यह कार्यक्रम सेंट फ्रांसिस ऑफ असीसी (Francis of Assisi) के पर्व के साथ रेखित किया गया था जो 4 अक्टूबर का दिन था।

    आपको बता दें कि Assisi के Francis ने अपने चारों ओर जानवरों की दुर्दशा को अपनी आँखों से देखा था और वे उनके दर्द को ठीक करना चाहते थे।

    अगले कुछ वर्षों में, यह कार्यक्रम हर साल आयोजित किया गया और 1929 में, यह 4 अक्टूबर को आयोजित किया गया। और अंततः मई 1931 में फ्लोरेंस इटली में अंतर्राष्ट्रीय पशु संरक्षण कांग्रेस द्वारा 4 अक्टूबर को विश्व पशु दिवस मनाने का संकल्प अपनाया गया था।

    जिसके बाद से आज पूरी दुनिया में जानवरो की भलाई के लिए वर्ल्ड एनिमल डे मनाया जाता है। और 2003 में Naturewatch Foundation ने एक वेबसाइट launch की जो World Animal day पर केन्द्रित हैं।


    यहाँ पढ़े: World Sparrow Day 2021: विश्व गौरैया दिवस और संरक्षण के उपाय

    विश्व पशु दिवस क्यों मनाया जाता है? (उद्देश्य)

    वास्तव में विश्व पशु संरक्षण दिवस के दिन को जानवरों को बचाने और उनके प्रति जागरूकता फैलाने लिए मनाया जाता है। यह और भी बहुत से उद्देश्यों से मनाया जाता है जो निम्न है:


    • जानवरों के प्रति इंसानो की क्रूरता को रोकना,
    • जानवरों के लिए प्राकृति द्वारा बनाए गए जंगलों को बचाना,
    • पशुओं की भावनाओं का सम्मान करना
    • पशुओं की स्थिति बेहतर करना,
    • पशु चिकित्सा और संरक्षण को बढ़ावा देना,
    • लुप्त होने की कगार पर पहुचने वाली प्रजातियों को बचाना,
    • वाइल्ड लाइफ को नियंत्रित करना,
    • जीव-जंतुओं में भी मनुष्य की तरह जान है, अत: यह भी सम्मान का हक़ रखते है।

    यहाँ पढ़े: कोरोना वायरस से हुए पृथ्वी और जानवरों को फायदे के बारें में

    World Animal Day 2021 Theme

    प्रत्येक वर्ष विश्व पशु दिवस एक खास थीम पर आधारित होता है और इस थीम के जरिए लोगों को किसी खास विषय पर जागरूक करना या उनका ध्यान केंद्रित करना होता है।

    इस साल World Animal Day 2021 की Theme “Forests and Livelihoods: Sustaining People and Planet” रखी गई है तो वहीं पिछली साल विश्व पशु दिवस 2020 की थीम “Man and Dog” थी।


    विश्व पशु दिवस कैसे मनाया जाता है?

    वर्ल्ड एनिमल डे को विश्वभर में अलग अलग जगहों पर अलग अलग तरीकों से मनाया जाता है और कई कार्यक्रमों का आयोजन तथा एक्टिविटीज भी की जाती है।

    इस दिन कई पशु जागरुकता कार्यक्रम पशु क्रुरता व उत्पीड़न को रोकने का अभियान तथा मैराथन आदि का आयोजन किया जाता है।

    इसके साथ ही पालतू जानवरों को गोद लेने एवं बेघर जानवरों को आश्रय प्रदान करने जैसे कार्य भी किए जाते हैं यहां तक कि पालतू जानवर और उनके पशुओं के लिए कुछ सहायता राशि भी प्रदान की जा सकती है।

    इतना ही नहीं पशु संगठन एवं पशुओं के लिए बने अन्य कानूनों के प्रति लोगों से बातचीत करने हैं एवं चर्चा आदि के लिए कई सम्मेलनों और सेमिनारों की व्यवस्था भी की जाती है।



    महत्व और अन्तिम शब्द

    मनुष्य शुरू से ही बहुत ज्यादा स्वार्थी प्राणी रहा है जिसने सभी सीमाओं को लांघ कर पृथ्वी का पूर्ण शोषण भी किया है। आज मनुष्य ने है पृथ्वी पर मौजूद कई प्राणियों एवं प्राकृतिक तत्वों के साथ-साथ कई पेड़ पौधों को भी नष्ट कर दिया है कई प्रजातियां विलुप्त हो गई है और कुछ विलुप्त होने की कगार पर हैं।

    यदि इन सभी को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया तो जल्द ही पृथ्वी पर से मनुष्य का जीवन भी समाप्त हो जाएगा। ऐसे में हमें पृथ्वी पर संतुलन बनाए रखने के लिए जीव जंतुओं पेड़ पौधों और पशु पक्षियों के साथ संतुलन बनाए रखना जरूरी है।

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post