-->

TRP की फुल फॉर्म क्या है? कैसें चेक करते है? TV Channels के लिए क्यों जरूरी है?

    Advertisement

    TRP Full Form in Hindi: टीआरपी क्या है? चैनल की TRP कैसे Check करें? Calculation Process और तरीका

    पिछले कुछ दिनों से चल रहे और भारत में टीआरपी घोटाला/विवाद को लेकर लोग काफी कंफ्यूजन में है, और कई लोगों को तो यह भी नहीं पता कि TRP होती क्या है? इसकी मीनिंग और Television और Media में TRP की फुल फॉर्म क्या है?

    ऐसे में कोई चैनल नंबर वन कैसे बन जाता है और टेलीविजन या मीडिया में टीआरपी का महत्व क्या होता है? यह सब आपको आज के इस लेख में जानने को मिलेगा साथ ही आप खुद भी किसी भी चैनल या टीवी शो की TRP को चेक कर सकेंगे।

    TRP Full Form in Media and television Hindi
    TRP Full Form in Media and television Hindi

    टीआरपी क्या है? TRP Full Form in Hindi

    TRP की फुल फॉर्म 'टेलीविजन रेटिंग पॉइंट' (Television Rating Point) होती है। यह एक तरह का उपकरण है जो किसी टीवी चैनल की रेटिंग और सबसे ज्यादा देखे जाने वाले (लोकप्रिय) कार्यक्रम एवं धारावाहिकों को दर्शाता है।

    इससे यह पता चलता है कि किसी खास कार्यक्रम की कितनी लोकप्रियता (Popularity) है, और लोग किसी चैनल या कार्यक्रम को कितनी बार देख रहे हैं।


    टीआरपी क्यों जरूरी है? (Importance of TRP for Channels and Advertisers)

    Advertiser और Sponsors के लिए TRP का महत्व:
    TRP किसी भी चैनल या धारावाहिक के लिए काफी महत्व रखता है, क्योंकि यह विज्ञापनदाताओं (Advertisers) और निवेशकों को लोगों के मूड को समझना आसान बनाता है।

    टीआरपी से ही विज्ञापनकर्ता यह तय करते हैं कि उन्हें अपना विज्ञापन किस चैनल या किस कार्यक्रम के लिए दिखाना है और उन्हे पैसे का निवेश किस तरह से और कहां करना चाहिए।

    किसी खास कार्यक्रम की या चैनल की TRP ज्यादा होने पर Advertisers वहां अपना विज्ञापन दिखाना चाहते हैं और इसके लिए वह ज्यादा पैसे भी देने को तैयार रहते हैं।


    TRP Rating Chart For DD National Channel
    TRP Rating Chart For DD National Channel

    चैनल या कार्यक्रम के लिए टीआरपी का महत्व:
    किसी चैनल के लिए टीआरपी काफी महत्वपूर्ण है आपको बता दें की चैनलों की करीबन 80-90% कमाई Advertisments (विज्ञापनों) से ही होती है।

    जब चैनलों की टीआरपी ज्यादा होती है तो एडवर्टाइजमेंट से आने वाला पैसा भी ज्यादा मिलता है। और इसके साथ ही किसी कार्यक्रम की टीआरपी ज्यादा होने पर उसकी स्पॉन्सरशिप और एडवर्टाइजमेंट से अच्छी कमाई हो पाती है। इस कमाई को वे अपने चैनल को और अच्छा बनाने में लगाता है।

    जैसे किसी न्यूज़ चैनल की टीआरपी ज्यादा है तो वह एडवर्टाइजमेंट और स्पॉन्सरशिप से आया पैसा लगाकर अपने चैनल को और अच्छा बना सकता है साथ ही कार्यक्रमों और धारावाहिकों की टीआरपी से चैनलों को यह आइडिया मिलता है कि लोग किस तरह के प्रोग्राम पसंद करते हैं।


    टीआरपी रेटिंग का दर्शकों के लिए महत्व
    टीआरपी जनता ही तय करती है लोग जो कार्यक्रम सबसे ज्यादा देखना पसंद करते हैं वही टीआरपी लिस्ट में नंबर 1, नंबर 2, नंबर 3 और अन्य Position पर होता है, ऐसे में TRP के साथ छेड़छाड़ करना दर्शकों की पसंद और लोकप्रियता के साथ खिलवाड़ करना है।


    यह भी पढ़े: कुमकुम भाग्य देखना है कैसे देखें - लाइव ऑनलाइन

    Television Rating Point कैसे मापी जाती है? (TRP Check or Calculation Process)

    टीआरपी कैलकुलेशन का काम भारत में BARC (ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल एजेंसी) तथा INTAM (इंडियन टेलीविजन ऑडियंस मेजरमेंट) एजेंसियों द्वारा किया जाता है। साथ ही जब केवल दूरदर्शन एकमात्र चैनल हुआ करता था तब DERT (दूरदर्शन ऑडियंस रिसर्च टीम) द्वारा TRP तय की जाती थी।

    हालांकि आज भी यह एजेंसी काम कर रही है और देश के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों के टेलीविजन देखने के पैटर्न पर नज़र रखती है।

    इन एजेंसियों के पास रेटिंग को मापने के लिए अलग-अलग यंत्र (Tools) भी होते हैं जिसकी मदद से यह इसे मापते (Calculate) हैं।


    Television Rating Point (TRP) Calculate करने के तरीके:
    1. Frequency Monitering Method (People meters):- इसमें People meters नामक उपकरण का इस्तेमाल TRP Calculate करने के लिए किया जाता है, इसे फ्रिकवेंसी मॉनिटरिंग मेथड कहते हैं इसके जरिए टीआरपी की जांच करना काफी आसान होता है।

      People meters को कुछ जगहों पर और निर्धारित घरों में स्थापित कर दिया जाता है, जिसके बाद दर्शकों द्वारा देखे जाने वाले टीवी पर कार्यक्रमों एवं चैनलों पर नजर रखी जाती है और इस गैजेट में सब कुछ रिकॉर्ड हो जाता है।

      जिसके बाद कई दिनों तक इसकी मॉनिटरिंग की जाती है तथा इसका डाटा INTAM की निगरानी में विश्लेषण करने के बाद तय किया जाता है, और यह बताया जाता है कि किसी चैनल या कार्यक्रम की टीआरपी क्या है।

    2. यह भी पढ़े: कौन बनेगा करोड़पति (KBC) के सभी विजेताओं की List (All Seasons)

    3. पिक्चर मैचिंग टेक्निक (Picture matching):- टीआरपी कैलकुलेट करने का यह तरीका काफी खास है इसमें People meters को एक ख़ास तरह के टीवी के एक छोटे से भाग को रिकॉर्ड करता है जिसके बाद पिक्चर के रूप में सभी नमूनों को एकत्रित किया जाता है और इसका विश्लेषण करने के बाद ही टीआरपी की गणना की जाती है और डाटा जारी किया जाता है।

    4. Audio Watermarking (BAR-O-METERS) बीएआरसी इंडिया भी डाटा कलेक्शन प्रोसेस, मेजरमेंट साइंस और वॉटरमार्क चैनल जैसी तकनीकों का इस्तेमाल कर डाटा जारी करती है। यह BAR-O-METERS के जरिए डाटा इकट्ठा करते हैं।

      जिसमें Audio Water marking तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है जिसकी मदद से प्रसारण के अपलोड और ब्रॉडकास्ट होने से पहले वीडियो कंटेंट में 'ऑडियो वाटरमार्क' एंबेड किया जाता है, यह ऑडियो वॉटरमार्क मनुष्य को सुनाई नहीं देता, लेकिन इनके लिए बनाए गए हार्डवेयर/सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके इसे आसानी से Viewership का पता लगाया जा सकता है।

    टीआरपी से जुडी प्रश्नोत्तरी (TRP Related FAQs)


    सबसे ज्यादा टीआरपी वाला न्यूज़ चैनल कौन सा है?

    आज तक चैनल को पीछे करते हुए 'रिपब्लिक भारत' चैनल सबसे ज्यादा टीआरपी वाला हिंदी न्यूज़ चैनल बन गया है। और इंग्लिश न्यूज़ चैनल में भी Republic TV नंबर वन पर है।


    किसी भी चैनल या शो की टीआरपी कैसे चेक करें?

    BARC (ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल ऑफ इंडिया) हर हफ्ते Thrusday (गुरूवार) को Television Rating Point (TRP) जारी करती है। आप सप्ताह (Weekly) के अनुसार Top 10 TRP Rating Channel और TV Serial की List को BARC की Website पर जाकर देख सकते है।


    भारत में नंबर 1 टीआरपी शो कौन है?

    BARC 2020 के 39वें हफ्ते यानी 26 सितंबर से 2 अक्टूबर तक की टीआरपी रेटिंग में 'कुंडली भाग्य' पहले नंबर पर है, तो वहीं IPL 2020 के चलते 'Star Sports 1 Hindi' Channel TRP के मामले में No.1 पर है।


    रामायण (डीडी नेशनल) की टीआरपी रेटिंग कितनी है?

    बर्क (BARK) के अनुसार दूरदर्शन पर री-टेलीकास्ट होने वाले शो रामायण ने हिंदी जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (GEC) Show की कैटेगरी में 2015 के बाद सबसे ज्यादा रेटिंग हासिल की थी, तो वही 'महाभारत' सीरीयल दूसरे नंबर पर था। BARC India के कैलेंडर के अनुसार 13वें हफ्ते (28 मार्च से 3 अप्रैल) में डीडी नेशनल चैनल पहले नंबर पर था।


    यह भी पढ़े: सी.सी.टी.वी फुल फॉर्म क्या है? | CCTV Full Form In Hindi
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer