भारतीय संविधान दिवस 2019: 26 नवंबर को क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय कानून दिवस जाने

    Constitution Day of India 2019: 26 नवंबर को है भारतीय संविधान दिवस, जानिए भीमराव अंबेडकर के बारे में

    Indian Constitution Day 2019: आज भारत का संविधान दिवस (Indian Constitution Day) है, जी हां दोस्तों हर साल 26 नवंबर को सविधान दिवस (कॉन्स्टिट्यूशन डे) मनाया जाता है आज ए के दिन 26 नवंबर 1949 को भारत का संविधान बनकर तैयार हुआ था जिसे तैयार करने में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा संविधान माना जाता है.

    साल 2015 में पहली बार भारत सरकार द्वारा संविधान दिवस मनाया गया संविधान दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य भीमराव अंबेडकर के योगदान को याद करना और संविधान के महत्व को लोगों तक पहुंचाना है.
    Indian Constitution Day 2019 Information in Hindi National Law Day
    Indian Constitution Day 2019 Information in Hindi National Law Day
    भारत में इस दिन नेशनल लॉ डे (National Law Day 2019) राष्ट्रीय विधि दिवस या राष्ट्रीय कानून दिवस भी मनाया जाता है.

    आज संविधान दिवस (Samvidhaan Diwas) पर हम आपको सविधान दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है तथा डॉक्टर भीमराव अंबेडकर कौन थे उसके बारे में भी बताने जा रहे हैं तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं.

    भारत का संविधान दिवस कब मनाया जाता है | When is Indian Constitution Day 2019

    वैसे तो हमारा सविधान 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया लेकिन भारत का संविधान 26 नवंबर 1949 को ही बनकर तैयार हो गया था, भारत सरकार द्वारा 2015 में पहली बार संविधान दिवस मनाया गया तभी से हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है.

    इस दिन ही नेशनल लॉ डे, (National Law Day 2019) राष्ट्रीय विधि दिवस या राष्ट्रीय कानून दिवस भी मनाया जाता है. 26 नवंबर 1949 के बाद करीब 30 साल पश्चात भारत के उच्चतम न्यायालय के बार एसोसिएसन ने 26 नवम्बर की तिथि को राष्ट्रीय विधि दिवस के रूप में घोषित किया था.

    भारत में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है तो वहीं 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है 26 नवंबर को संविधान दिवस भारत के संविधान का महत्व बताने और भीमराव अंबेडकर जी के संविधान में दिए गए सहयोग को याद दिलाने के लिए मनाया जाता है. अगली साल भारतीय संविधान दिवस (Indian Constitution Day) वीरवार 26 नवम्बर 2020 को मनाया जाएगा.

    यह भी पढ़ें: 26 जनवरी को पहला गणतंत्र दिवस क्यों और कैसे मनाया गया

    भारतीय संविधान दिवस के बारे में जानकारी | Indian Constitution Day 2019 in Hindi

    1. भारत का संविधान दुनिया के सभी संविधानों को बारीकी से समझने और परखने के बाद बनाया गया है.

    2. खुद बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर ने संविधान के बारे में कहा था कि – “ये workable है, ये flexible है और शांति हो या युद्ध का समय, इसमें देश को एकजुट रखने की ताकत है”

    3. भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा संविधान माना जाता रहा है आज भी यह विश्व का सबसे बड़ा संविधान है.

    4. भारतीय संविधान का मसौदा तैयार करने वाली समिति की स्थापना 29 अगस्त 1947 को की गई थी

    5. भारत के संविधान को तैयार करने में लगभग 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था.

    6. भारतीय मूल संविधान में में 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियां थीं। लेकिन संविधान में हुए संशोधनों के बाद अब भारतीय संविधान में 448 अनुच्छेद (Article) और 12 अनुसूचियां (Schedules) हैं।

    7. भारत का संविधान बेहद लचीला (flexible) है। अब तक इसमें 103 संशोधन किए जा चुके हैं। जिसके लिए अब तक 124 संविधान संशाेधन विधेयक पारित हुए हैं।

    8. भारत के संविधान सभा के 284 सदस्यों ने 24 जून 1950 को दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए, जिसके 2 दिन बाद भारतीय संविधान को लागू किया गया.

    9. भारतीय संविधान सभा के संचालक समिति के अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद थे, सविधान सभा के संघ शक्ति समिति और संघ संविधान समिति के अध्यक्ष जवाहरलाल नेहरू, प्रारूप समिति के अध्यक्ष बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर और प्रांतीय संविधान समिति के अध्यक्ष सरदार वल्लभभाई पटेल थे.

    10. संविधान सभा पर किया गया अनुमानित खर्च करीबन 1 करोड़ रुपये था.

    11. भारत का संविधान पूरी तरह से हस्तलिखित है, संविधान (Constitution) का मसौदा तैयार करने में किसी भी तरह की टाइपिंग या प्रिंटिंग का इस्तेमाल नहीं किया गया था.

    डा. बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर के बारें में | Baba Saheb BheemRao Aambedkar Short Information in Hindi

    डॉक्टर भीमराव अंबेडकर अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ, भारतीय बहुज्ञ, विधिवेत्ता, और समाज सुधारक थे. स्वतंत्र भारत के पहले विधि एवं न्याय मंत्री थे, भारतीय संविधान के जनक और भारतीय गणराज्य के निर्माता के रूप में जाने जाते हैं.

    डॉ भीमराव अंबेडकर को कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र के डायरेक्टरेट की उपाधि प्राप्त थी, साथ ही उन्होंने अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान, और विधि में भी शोध कार्य किए. उन्होंने अपने जीवन में वकालत भी की तथा उन्होंने अपना व्यवसायिक जीवन के शुरूआती दिनों में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे.

    उन्होंने दलितों से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया, अंबेडकर जी का मानना था कि छुआछूत गुलामी से भी बदतर है.

    भारतीय संविधान में सहयोग के बाद डॉक्टर भीम राव अंबेडकर की छवि एक बुद्धिमान संविधान विशेषज्ञ के रूप में तब बन गई. जब उन्होंने लगभग 60 देशों के संविधान का अध्ययन किया और भारत का संविधान बनाया.

    डॉक्टर अंबेडकर को भारत के संविधान का पिता के रूप में मान्यता प्राप्त है.

    मरणोपरांत उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया, आज भी 24 अप्रैल को उनके जन्मदिन को अंबेडकर जयंती के रूप में मनाया जाता है.

    अंतिम शब्द

    दोस्तों अब तो आप समझ ही गए होंगे कि 26 नवंबर को भारतीय संविधान दिवस (Indian Constitution Day 2019) क्यों मनाया जाता है, हम आपको बता दें कि संविधान दिवस की शुरुआत नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा 2015 में की गई थी. 2015 में ही पहली बार संविधान दिवस मनाया गया. इसी दिन नेशनल लॉ डे (National Law Day 2019) राष्ट्रीय विधि दिवस या राष्ट्रीय कानून दिवस भी मनाया जाता है.

    अगर आपको संविधान दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है तथा डॉक्टर बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के बारे में यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें और ताकि उन्हें भी सविधान दिवस का महत्व समझ में आ सके.
    ---------यह भी पढ़े:----------
    भारतीय संविधान दिवस 2019: 26 नवंबर को क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय कानून दिवस जाने भारतीय संविधान दिवस 2019: 26 नवंबर को क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय कानून दिवस जाने Reviewed by HaxiTrick on Tuesday, November 26, 2019 Rating: 5

    Indian Constitution Day 2019 in Hindi, Baba Saheb BheemRao Aambedkar, डा. बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर, भारतीय संविधान दिवस के बारे में जानकारी,राष्ट्रीय विधि दिवस या राष्ट्रीय कानून दिवस

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post