Women’s Day 2024: अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की थीम, इतिहास और उद्देश्य

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस प्रत्येक वर्ष 8 मार्च को मनाया जाता है, इसे मनाए जाने की आधिकारिक घोषणा संयुक्त राष्ट्र द्वारा 8 मार्च 1975 को की गई थी।

International Women’s Day 2024: अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? जानिए थीम और इतिहास

वैश्विक स्तर पर महिलाओं को सम्मानित करने एवं नारी सशक्तिकरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से हर साल 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) मनाया जाता है। इसे मनाए जाने की शुरुआत संयुक्तराष्ट्र महासभा (UN) द्वारा 8 मार्च 1975 को हुई थी।

भारत समेत विश्व के सभी देशों में महिलाओं को समर्पित यह दिन उन्हें सम्मानित करने के लिए फूल देकर मनाया जाता है। इस साल इंटरनेशनल वूमेंस डे 8 मार्च 2024 को शुक्रवार के दिन मनाया जा रहा है।

Antarrashtriya Mahila Diwas 8 March 2024
Antarrashtriya Mahila Diwas 8 March 2024

अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की जानकारी
नाम अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day)
कब (तारीख़)8 मार्च (वार्षिक)
शुरूआत8 मार्च 1975 (संयुक्तराष्ट्र महासभा द्वारा)
उद्देश्यमहिलाओं को समान अधिकार एवं समाज में बराबरी का हक देना तथा उन पर होने वाले अत्याचारों एवं अधिकारों के प्रति जागरूकता फैलाना
थीम (2024)इन्वेस्ट इन वीमेन: एक्सेलरेट प्रोग्रेस

 

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरूआत कैसे हुई? (इतिहास)

समाज में महिलाओं के योगदान और लिंग समानता के लिए लड़ाई को लेकर जागरूकता बढाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस प्रत्येक वर्ष 8 मार्च को मनाया जाता है, इसे मनाए जाने की आधिकारिक घोषणा संयुक्त राष्ट्र द्वारा 8 मार्च 1975 को की गई थी।

हालांकि अनोपचारिक तौर पर यह दिवस पहली बार 28 फरवरी 1909 में अमेरिकन सोशलिस्ट पार्टी के आह्वान पर अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में मनाया गया था, इसके बाद यह दिन फरवरी के अंतिम रविवार को मनाया जाना तय हुआ। 1910 में उस समय महिलाओं को मतदान का अधिकार दिलवाने के लिए इसे अंतरराष्ट्रीय दिवस का दर्जा दिया गया।

 

विमेंस डे के लिए 8 मार्च का दिन ही क्यों?

1917 में वूमेंस डे के दिन रूस की महिलाओं द्वारा एक ऐतिहासिक हड़ताल की घोषणा की गई, जिसके बाद वहां महिलाओं को वोट देने के अधिकार मिला। उन दिनों रूस को छोड़कर बाकी सभी जगहों पर ग्रेगेरियन कैलेंडर चलता था, जिसकी तारीखों में रूस के जुलियन कैलेंडर से थोडा बहोत अन्तर था।

रूस के जुलियन कैलेंडर के अनुसार 1917 में फरवरी का आखिरी रविवार 23 फ़रवरी को पड़ा तो वहीं ग्रेगेरियन कैलैंडर के अनुसार उस दिन मार्च की 8 तारीख़ थी। परंतु बाद में रूस सहित सभी देशों में ग्रेगेरियन कैलैंडर का पालन होने लगा, अतः 8 मार्च की तारीख को महिला दिवस के रूप में मनाया जाना तय हुआ। इसके बाद संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्ष 1975 में इसे मनाने की आधिकारिक घोषणा की गई।

यह भी पढ़े: पुरुष दिवस कब मनाया जाता है?

 

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस क्यों मनाते है? (उद्देश्य)

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस जेंडर इक्वलिटी (लिंगवाद विरोध) और महिलाओं को समान अधिकार दिलवाने, महिला सशक्तिकरण तथा उनके भीतर उनके अधिकारों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 8 मार्च को मनाया जाता है। यह दिवस महिलाओं के अधिकार और लैंगिक समानता के लिए चल रही लड़ाई में लोगों को कार्य करने के लिए प्रेरित करता हैं।

इसके कुछ अन्य उद्देश्य है:

  • महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना,
  • महिलाओं की उपलब्धियों की पहचान करना,
  • महिला केंद्रित संस्थाओं के लिए धन एकत्र करना ताकि महिलाओं की स्थिति को सुधारा जा सके,
  • महिलाओं को समानता के बारे में जागरूकता बढ़ाना,
  • महिलाओं की सुरक्षा एवं कल्याण को लेकर योजनाएं तैयार करना, आदि।

इसके साथ ही यह देश की प्रगति एवं विकास में महिलाओं के योगदानों की सराहना एवं महिलाओं को उनके महत्वपूर्ण कार्यों के लिए सम्मानित करने का भी एक ख़ास दिन है।

 

 

अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं फोटो (Women’s Day Quotes Wishes Images)

आज महिलाएं पुरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं और सभी क्षेत्रों में अपनी छाप छोड़ रही हैं, चाहे धरती हो या चांद महिलाएं अब अपने सपनों की उड़ान भरने के लिए तैयार हैं ऐसे में हमें उनके योगदानों के लिए विश्व महिला दिवस के मौके पर उनका आभार व्यक्त करते हुए उन्हें शुभकामनाएं देनी चाहिए।


कभी मां, कभी बहन, तो कभी पत्नी बन कर,
वो हर बार आपको सही राह दिखाती है,
नारी को कभी कम मत समझना,
वो हर मोड़ पर आपका साथ निभाती है!
महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाये!


महिलाओं के लिए 8 मार्च ही क्यों,
हर दिन नारी के सम्मान में मनाना है,
वो रहें सुरक्षित और खुशहाल,
उनके लिए ऐसा समाज बनाना है।
हैप्पी वूमेंस डे!


महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाए फोटो
महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाए फोटो

कुछ लोग कहते हैं कि औरत का कोई घर नहीं होता,
लेकिन सच तो यह है कि…
औरत के बिना कोई घर नहीं होता है।
हैप्पी वूमन्स डे डियर!


भारत में ही कई महान ऐतिहासिक महिलाओं का जन्म हुआ जिनमें कल्पना चावला, मदर टेरेसा, इंदिरा गांधी, मैरीकॉम, साइना नेहवाल, स्मृति मंधाना, सानिया मिर्जा एवं मंगल मिशन में शामिल महिलाएं मुख्य है।

दुनिया कहती है कि नारी कमजोर हैं,
वो क्या जाने नारी के हाथों में ही घर को चलाने की डोर हैं।
महिला दिवस की बधाई!


नारी सशक्तिकरण का क्या है अर्थ,
यदि नारी का सम्मान नहीं कर सके तो अब कुछ है व्यर्थ।

 

Happy Women's Day - 8 March
Happy Women’s Day – 8 March

ए माँ!
आज मैं जो कुछ भी हूं, सिर्फ आपकी वजह से हूं,
आप ही मेरी प्रेरणा हैं, आपको महिला दिवस की शुभकामनाएं!


स्त्रियों को न समझों बेकार,
ये है ईश्वर का सबसे सुंदर उपहार,
महिला दिवस की हार्दिक बधाईयाँ!


हर दुःख और दर्द सहकर वो मुस्कुराती है,
इंटों की दीवारों को नारी ही घर बनाती है।
हैप्पी विमेंस डे 2024

 

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2024 की थीम (Women’s Day Theme in Hindi)

8 मार्च को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2024 की थीम “महिलाओं में निवेश करें: प्रगति में तेजी लाएं” (Invest in women: Accelerate progress) है, तो वहीं पिछली साल 2023 की थीम “डिजिटऑल: लैंगिक समानता के लिए नवाचार और प्रौद्योगिकी” (DigitALL: Innovation and technology for gender equality) थी।

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महिला (UNWomen) ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2022 की थीम एक स्थाई कल के लिए आज लैंगिक समानता (Gender equality today for a sustainable tomorrow) घोषित की थी।

वूमेंस डे की पिछले कुछ सालों की थीम:

  • 2011: शिक्षा, प्रशिक्षण एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी की समान पहुँच: महिलाओं के बेहतरी का मार्ग
  • 2012: ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाना, गरीबी और भूखमरी का अंत
  • 2013: वचन देना, एक वचन है: महिलाओं के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने के लिए कार्रवाई का समय
  • 2014: महिलाओं के लिए समानता, सभी के लिए प्रगति है
  • 2015: महिला सशक्तीकरण, ही मानवता सशक्तीकरण: इसे कल्पना कीजिये!
  • 2016: 2030 तक, ग्रह में सभी 50-50: लैंगिक समानता के लिए आगे आये।
  • 2017: कार्य की बदलती दुनिया में महिलाएं: 2030 तक, ग्रह में सभी 50-50
  • 2018: अब समय है: महिलाओं और महिलाओं के जीवन को बदलने वाले ग्रामीण और शहरी कार्यकर्ता अब हैं: ग्रामीण और शहरी कार्यकर्ता महिलाओं के जीवन को बदल रहे हैं
  • 2019: समान सोचें, बिल्ड स्मार्ट, बदलाव के लिए नया करें।
  • 2020: मैं जनरेशन इक्वेलिटी: महिलाओं के अधिकारों को महसूस कर रही हूं।
  • 2021: नेतृत्व में महिलाएं: कोविड-19 की दुनिया में एक समान भविष्य की प्राप्ति
  • 2022: एक स्थाई कल के लिए आज लैंगिक समानता

 

 

Womens Day कैसे मनाया जाता है?

दुनियाभर में अलग-अलग हिस्सों में महिलाओं के प्रति सम्मान, सराहना और प्यार प्रकट करते हुए, उन्हें और उनके द्वारा किए कार्यों को सम्मानित करने के साथ ही इस दिन महिलाओं के लिए जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

इस दिन बैंगनी रंग के रिबन का भी ख़ास महत्व है, कुछ लोग ‘बैंगनी रंग‘ के रिबन पहनकर यह जश्न मनाते हैं।

तो वही कुछ जगहों पर यह दिवस को फूलों का आदान-प्रदान करते हुए तो कुछ जगहों पर गले लगाकर यह ख़ास दिन मनाया जाता है इसके आलावा भी बहुत सारे तरीके हैं, जैसे शुभकामना संदेशों को भेजना आदि। इस मौके पर गूगल एक डूडल (Google Doodle) बनाकर शानदार ग्राफिक्स को पेश करते हुए दुनिया को International Women’s Day की शुभकामनाएं देता है।

 

पहली बार अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस कब मनाया गया?

पहला अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 28 फरवरी के दिन वर्ष 1909 में अमेरिका में मनाया गया था, इसके बाद यूनाइटेड नेशंस जनरल असेंबली ने 1975 में इसे 08 मार्च को मनाने की आधिकारिक घोषणा की। और वर्ष 1996 में इसे पहली बार एक खास Theme (विषय) के साथ मनाया गया यह थीम थी ‘अतीत का जश्न, भविष्य के लिए योजना‘।

बताया जाता है कि महिला दिवस मनाने का विचार ‘क्लारा जेटकिन’ नामक महिला का था, जो मार्क्सवादी सोच वाली एक कार्यकर्ता थीं। साथ ही वे महिलाओं के अधिकारों समबन्धित मुद्दों पर हमेशा सक्रिय रहती थीं।

 

राष्ट्रीय महिला दिवस कब मनाया जाता है?

भारत में राष्ट्रीय स्तर पर महिला दिवस 13 फरवरी को देश की कोकिला सरोजनी नायडू जी की जयंती के अवसर पर मनाया जाता है, इसकी शुरुआत वर्ष 2014 में सरोजिनी नायडू जी की 135वीं जयंती के मौके पर हुई। सरोजिनी नायडू जी देश की महान स्वतंत्रता सेनानी, कवित्री और आजाद भारत की पहली महिला राज्यपाल थी।

महिला सशक्तीकरण की राष्ट्रीय नीति को पारित किए जाने वाले वर्ष (2001) को भारत सरकार द्वारा ‘महिला सशक्तिकरण वर्ष‘ घोषित किया गया था।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *