-->

विश्व एड्स दिवस 2020: कब, क्यों और कैसे मनाते है World AIDS Day? जानिए थीम

    World AIDS Day 2020: विश्व एड्स दिवस कब, क्यों और कैसे मनाते है? इसकी थीम तथा HIV के लक्षण और कारण

    वर्ल्ड एड्स डे २०२०: हर साल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस (World AIDS Day) मनाया जाता है, इसकी शुरूआत 1988 में हुई जिसका मुख्य मकसद लोगों को एचआईवी (HIV) संक्रमण से होने वाली बीमारी एड्स के बारे में जागरूक करना है।

    इस अवसर पर सभी देशों में एड्स जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाते हैं, साथ ही भाषण, चर्चा और टेस्टिंग कैंप भी लगाए जाते हैं। हर साल का AIDS Day एक खास विषय के साथ मनाया जाता है। इस साल की थीम 'वैश्विक एकजुटता, साझा जिम्मेदारी' है।

    World AIDS Day 2020 In Hindi
    World AIDS Day 2020 In Hindi

    AIDS क्या है? (Full Form)
    एड्स (जिसकी फुल फॉर्म एक्वायर्ड इम्यून डिफिशिएंसी सिंड्रोम है) एचआईवी (जिसकी फुलफॉर्म ह्यूमन इम्यूनोडिफिशिएंसी वायरस है) के कारण होने वाला संक्रमण है।


    विश्व एड्स दिवस कब मनाया जाता है?

    विश्व एड्स दिवस प्रत्येक वर्ष 1 दिसंबर को मनाया जाता है, 1988 में स्थापित वर्ल्ड एड्स डे वैश्विक स्वास्थ्य के लिए पहला अंतर्राष्ट्रीय दिवस था।

    अगस्त 1987 में 'जेम्स डब्ल्यू वन' और 'थॉमस मैटर' नाम के दो व्यक्तियों ने सबसे पहले विश्व एड्स दिवस की शुरूआत का कदम आगे बढ़ाया।

    यह दोनों ही विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) में एड्स ग्लोबल कार्यक्रम के अधिकारी के रूप में जिनेवा, स्विट्जरलैंड में नियुक्त किए गए थे।

    उन्हीं के द्वारा डब्ल्यूएचओ के ग्लोबल ऑन एड्स के डायरेक्टरेट जॉनाथन मान के सामने यह सुझाव रखने पर और जोनाथन को यह सुझाव उचित लगने पर 1 दिसंबर 1988 को वर्ल्ड एड्स डे मनाने के के लिए इस दिन को चुना गया। तभी से यह दिन विश्व एड्स दिवस (World AIDS Day) के रूप में मनाया जाता है।


    यह भी पढ़ें: 4 दिसंबर को है भारतीय नौसेना दिवस

    वर्ल्ड एड्स दिवस क्यों मनाया जाता है उद्देश्य

    विश्व एड्स दिवस मनाने के पीछे का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर के लोगों के लिए एचआईवी के खिलाफ लड़ाई में एकजुट होकर खड़े होने, एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ रहने के लिए समर्थन दिखाने, और एड्स से संबंधित बीमारी से मरने वाले लोगों के लिए शोक मनाने का दिन है।

    इसका मुख्य मकसद एड्स जैसे रोगों के बारे में जागरूकता फैलाना और एचआईवी संक्रमण के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। यानी कि एड्स होने के कारणों और इसके लक्षणों को समझाना है और इससे बचने के उपायों को लोगों तक पहुंचाना होता है।


    क्यों जरूरी है यह दिवस (HIV STATISTICS)
    • विश्व स्तर पर लगभग 37.9 मिलियन लोग 2019 में एचआईवी वायरस के साथ जी रहे थे।

    • इस वायरस की पहचान 1984 में ही की जा चुकी है लेकिन इसके बावजूद भी अब तक 35 मिलियन से अधिक लोग एचआईवी एड्स से मर चुके हैं।

    • अकेले 2019 में ही लगभग 1.7 मिलियन लोग संक्रमित हुए और तकरीबन 690000 लोग एड्स संबंधित बीमारियों से मारे गए।

    • एड्स से अब तक करीबन 75.7 मिलियन लोग संक्रमित हो चुके है।

    • लगभग 25.4 मिलियन लोग 2019 में एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी तक पहुंच रहे थे।

    ये आंकड़े देखकर समझा जा सकता है कि यह कितना विनाशकारी संक्रामक रोग है।


    World AIDS Day 2020 Images
    World AIDS Day 2020 Images

    यह भी पढ़ें: Coronavirus के लक्षण इससे बचने के उपाय तथा इलाज

    विश्व एड्स दिवस कैसे मनाया जाता है? (World Aids Day Celebration)

    विश्व एड्स दिवस दुनिया भर में एचआईवी संक्रमित लोगों के साथ एकजुटता दिखाने का अवसर है, अधिकांश लोग इस दिन जागरूकता के लिए लाल रिबन (Red Ribbon) पहनते हैं, यह लाल रिबन ऑनलाइन स्टोर या किसी भी केमिस्ट स्टोर से खरीदे जा सकता है।


    • हर साल संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियां, सरकारें एवं नागरिक समाज में एचआईवी से संबंधित विशिष्ट विषयों पर चलाए जा रहे अभियानों में शामिल होते हैं।

    • फंड जुटाने के लिए भी यह दिन काफी महत्वपूर्ण होता है लोग समुदायों एवं इससे जुड़े संगठनों को दान करते हैं।

    • एचआईवी के साथ रहने वाले लोग अपने जीवन के जरूरी मुद्दों पर अपनी आवाज उठाते हैं।

    • दुनिया भर में इस दिन इस संक्रमण के प्रति जागरूकता बढ़ाने वाली गतिविधियां की जाती है।

    यह भी पढ़ें: 30 नवंबर को मनाया जाता है कंप्यूटर सिक्योरिटी डे

    विश्व एड्स दिवस की थीम (World AIDS Day 2020 Theme)

    हर साल विश्व एड्स दिवस एक विशेष थीम के साथ मनाया जाता है इस वर्ष World AIDS Day 2020 की Theme 'Global solidarity, shared responsibility' (वैश्विक एकजुटता, साझा जिम्मेदारी) है।

    यह थीम हमें वैश्विक एक स्तर पर एड्स के खिलाफ एकजुट होने और अपनी जिम्मेदारियों को एक समूह में बांटने पर केंद्रित है। क्योंकि हम इस बीमारी से एकजुट होकर और अपनी जिम्मेदारियों को सही तरीके से निभाते हुए ही हरा सकते हैं।


    पिछली बार 2019 की थीम कम्युनिटी मेक द डिफरेंस (हिंदी में: समुदाय फर्क करते हैं) थी।


    World AIDS Day Themes
    • 1988 का विषय: Communication
    • 2009 का विषय: Universal Access and Human Rights
    • 2010 का विषय: Universal Access and Human Rights
    • 2011 का विषय: Getting to Zero
    • 2012 का विषय: Together we will end AIDS
    • 2013 का विषय: Zero Discrimination
    • 2014 का विषय: Close the gap
    • 2015 का विषय: On the fast track to end AIDS
    • 2016 का विषय: Hands up for #HIVprevention
    • 2017 का विषय: My Health, My Right
    • 2018 का विषय: Know your status
    • 2019 का विषय: Communities make the difference

    यह भी पढ़ें: विश्व कैंसर दिवस के बारे में

    एड्स होने के कारण (Cause Of AIDS In Hindi)

    • असुरक्षित यौन संबंध: एड्स होने का सबसे मुख्य कारण असुरक्षित यौन संबंध यानि बिना कंडोम के सेक्स (यौन-क्रिया) माना जाता है। इसका अर्थ यह है कि अगर आप किसी HIV Positive व्यक्ति से अनसेफ सेक्स करते हैं तो आप HIV ग्रस्त हो सकते हैं।

    • संक्रमित सुई: बार-बार इस्तेमाल किए जाने वाले इंजेक्शन से भी एड्स होने की संभावना होती है, हमेशा इंजेक्शन के लिए नए सुई का ही इस्तेमाल करें।

    • संक्रमित महिला का बच्चा: अगर कोई महिला HIV संक्रमित है, तो हो सकता है कि उसके गर्भ से पैदा होने वाला बच्चा भी इससे संक्रमित हो, लेकिन यह जरूरी नहीं है कि वह इससे ग्रस्त ही होगा।

    • संक्रमित खून: खून चढ़ाते समय हमेशा खून की जांच की जानी चाहिए, अगर कोई भी ब्लड सैंपल HIV Positive है, तो उसे किसी भी मरीज को नहीं चढ़ाना चाहिए।

    यह भी पढ़ें: विश्व क्षयरोग/तपेदिक दिवस की जानकारी

    एचआईवी के लक्षण (Symptioms of HIV AIDS)

    दोस्तों HIV कोई खांसी जुखाम जैसी बीमारी नहीं है यह धीरे धीरे आपको कवर करती है और यह संक्रमण हो जाने पर थकावत महसूस होना, स्किन प्रॉब्लम, बुखार आना, उल्टी दस्त होना, जुखाम, गले में खराश, भूख कम लगना, पसीना आना, सांस लेने में समस्या, वजन घटना आदि जैसे लक्षण सामने निकल कर आते हैं।


    यह भी पढ़ें: World Blood Donor Day कब मनाया जाता है?

    एड्स के बारे में फैलाई गई पांच गलतफहमी (Misconception)

    • चुम्बन से: एचआईवी संक्रमित पीड़ितों के सलाइवा (लार) में HIV वायरस की मात्रा काफी कम या न के बराबर होती है इसलिए यह चुम्बन से नहीं फैलता।

    • पानी से: एचआईवी पॉजिटिव व्यक्ति के स्विमिंग पूल में नहाने, उसके कपड़े धोने, उसका जूठा पानी पीने यहां तक कि बाथरूम का इस्तेमाल करने से भी यह वायरस नहीं फैलता।

    • साथ रहने से: यह वायरस हवा से नहीं फैलता, इसके आलावा आपके आस पास एचआईवी पीड़ित व्यक्ति के छींकने या थूकने से भी यह वायरस नहीं फैलता।

    • मच्छर काटने से: मच्छर से मलेरिया डेंगू जैसी बीमारी जरूर हो सकती है, लेकिन एचआईवी एड्स पीड़ित को काटे हुए मच्छर के आप के काटने से यह संक्रमण नहीं फैलता।

    • हर किसी से हो सकता है: आपको एचआईवी AIDS हर किसी से नहीं, लेकिन किसी भी ऐसे इंसान से हो सकता है जो पहले से ही एचआईवी ग्रसित है, जिसमें अनसेफ सेक्स, संक्रमित सुई, संक्रमित व्यक्ति का रक्त चढ़ाने और ऑर्गन ट्रांसप्लांट से साथ ही एचआईवी ग्रसित मां से उसके बच्चे को हो सकता है।
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post