-->

उपभोक्ता अधिकार दिवस 2021: World Consumer Rights Day की थीम और इतिहास

2021: उपभोक्ताओ के अधिकारों की रक्षा करने एवं इसके बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस हर साल 15 मार्च को मनाया जाता है। आइये इसके बारें में विस्तार से जानते है...

    World Consumer Rights Day 2021: विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है? जानिए थीम और इतिहास

    अन्तर्राष्ट्रीय उपभोक्ता अधिकार दिवस 2021: डिजिटल जमाने में ऑनलाइन ठगी ज़ोरों पर है इसलिए उपभोक्ताओं को सतर्क और जागरूक रहने की आवश्यकता है और ऐसे ही उद्देश्य से मनाया जाने वाला विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस (World Consumer Rights Day 2021) इस साल 15 मार्च को सोमवार के दिन मनाया जा रहा है।

    भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे 'जागो ग्राहक जागो' जैसे अभियान भी लोगों को उपभोक्ता अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए ही पेश किए गए है।

    आज के जमाने में हर कोई एक ग्राहक ही है चाहे वह, मैं हूं.. आप है या... कोई दुकानदार.., सब एक दूसरे पर आश्रित हैं ऐसे में हम सभी को अपने अधिकारों के बारे में जानकारी होनी चाहिए जिससे बाजार में होने वाली धोखाधड़ी और ठगी से बचा जा सके।

    Vishwa Upbhokta Adhikaar Diwas 2021
    Vishwa Upbhokta Adhikaar Diwas 2021

    इस लेख में हम आपको विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस 2021 के विषय (Theme), उद्देश्य और इतिहास (History) के बारे में बताने जा रहे हैं।


    विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस कब मनाया जाता है?

    उपभोक्ताओं के अधिकारों की रक्षा करने एवं इसके बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस (World Consumer Rights Day) हर साल 15 मार्च को मनाया जाता है। वर्ष 1983 में इसकी शुरूआत के बाद पहला उपभोक्ता अधिकार दिवस 15 मार्च 1983 को मनाया गया था।

    वर्ल्ड कंज्यूमर राइट्स डे की शुरुआत 15 मार्च 1962 को अमेरिकी कांग्रेस के तत्कालिक राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी द्वारा उपभोक्ता अधिकारों के विषय में दिए गए एक शानदार भाषण के आधार पर की गई थी।

    जॉन एफ कैनेडी के इस भाषण के करीब 20 साल बाद इसी एतिहासिक दिन को कंजूमर इंटरनेशनल नामक एक संस्था द्वारा वर्ष 1983 में 'उपभोक्ता अधिकार दिवस' के रूप में मनाने की शुरुआत की गयी, जिसे 15 मार्च को ही आयोजित किया गया।


    वर्ल्ड कंज्यूमर राइट्स डे क्यों मनाया जाता है?

    विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस ग्राहकों को ठगी से बचाने और उन्हें उपभोक्ता अधिकारों के बारे में जागरूक करने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

    साथ ही इसका मकसद मार्किट में होने वाली ठगी, मिलावट, MRP से ज्यादा दाम लेना, बिना तोले समान बेचना या नापतोल में गड़बड़ी, गरंटी के बाद भी सर्विस न देना तथा एक्सपायरी डेट या सील टूटी हुई वस्तुएं बेचने अथवा बिल ना देना जैसे अपराधों को रोकना एवं ग्राहकों को अपनी जिम्मेदारियों और अधिकारों के प्रति जागरूक करना भी है।


    उपभोक्ता अधिकार दिवस 2021 की थीम (World Consumer Rights Day Theme)

    हर साल उपभोक्ता अधिकार दिवस एक खास थीम के साथ मनाया जाता है और कंज्यूमर्स इंटरनेशनल ने इस साल उपभोक्ता अधिकार दिवस 2021 की थीम 'Tackling Plastic Pollution' (प्लास्टिक प्रदूषण से निपटना) घोषित की है।

    यह थीम उपभोक्ताओं द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले सिंगल यूज प्लास्टिक को नकारने पर केंद्रित है।

    आज इसका बढ़ता इस्तेमाल पारिस्थितिक तंत्र को प्रभावित कर रहा है साथ ही इसके पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभाव देखे जा सकते हैं तथा यह मानव स्वास्थ्य के लिए भी एक खतरा हैं।


    अन्तर्राष्ट्रीय उपभोक्ता अधिकार दिवस की पिछले कुछ सालों की थीम्स:
    • 2020: सतत उपभोक्ता (The Sustainable Consumer)
    • 2019: विश्वसनीय स्मार्ट उत्पाद (Trusted Smart Products)
    • 2018: डिजिटल मार्केटप्लेस को उचित बनाना (Making digital marketplaces fairer)
    • 2017: बेहतर डिजिटल दुनिया (Better Digital World)
    • 2016: एंटीबायोटिक्स मेनू बंद (Antibiotics Off The Menu)


    अन्तर्राष्ट्रीय उपभोक्ता अधिकार दिवस कैसे मनाते है?

    विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस के अवसर पर ग्राहकों को अपनी जिम्मेदारियों एवं अधिकारों के बारे में बताने और जागरूक करने के लिए इस दिन विश्व स्तर पर कई कार्यक्रम चलाए जाते हैं।

    स्कूलों और कॉलेजों में भी इस दिन इस विषय को लेकर कई कार्यक्रम और इवेंट्स का आयोजन किया जाता है।

    इस मौके पर लोगों को उपभोक्ता अधिकारों एवं कानूनों के बारे में भी विस्तार से समझाया जाता है और कंजूमर फोरम में शिकायत करने के बारे में भी जानकारी दी जाती है।


    यदि एक उपभोक्ता के तौर पर आपके अधिकारों का हनन होता दिखाई दे रहा है तो आप अपनी इच्छा के अनुसार उपभोक्ता आयोग में कार्यवाही कर सकते हैं, जिसमें कालाबाजारी, जमाखोरी, मिलावट, नाप-तोल में गड़बड़ी, बिल ना देना, वस्तुओं का अधिक मूल्य लेना तथा इसी तरह के दूसरे गुनाह इन कानूनों के अंतर्गत आते हैं।


    यह भी पढ़े: Amazon & Flipkart से ऑनलाइन खरीदारी करना सीखें

    भारत में राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस कब मनाया जाता है?

    भारत में वर्ष 2000 से ही राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस हर साल 24 दिसंबर को मनाया जाता है। इसी दिन भारत के तत्कालिक राष्‍ट्रपति ने उपभोक्‍ता संरक्षण अधिनियम, 1986 को स्वीकारा था। जिसे 9 दिसंबर 1986 को तत्कालिक प्रधानमंत्री राजीव गांधी जी की पहल पर पारित किया गया।


    उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के तहत ग्राहकों को मिले कुछ जरूरी अधिकार:

    भारतीय संविधान में भी उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 के तहत उपभोक्ताओं को भी कई अधिकार दिए गए हैं जो निम्नलिखित हैं:

    • उपभोक्ता शिक्षा का अधिकार
    • सुनवाई का अधिकार
    • सूचना पाने का अधिकार
    • चुनने का अधिकार
    • विवाद सुलझाने का अधिकार
    • सुरक्षा का अधिकार

    अंतिम शब्द

    अब तो आप विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है? और इसकी Theme के बारे में पूरी जानकारी भी मिल गई होगी।

    अगर आपको World Consumer Rights Day कि यह Information अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भी जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इस दिवस के बारे में और अपने उपभोक्ता अधिकारों के बारे में जानकारी मिल सके।

    follow haxitrick on google news
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post