-->

World Tuberculosis Day 2020: विश्व क्षयरोग/तपेदिक दिवस कब मनाया जाता है?

    Advertisement

    World Tuberculosis Day 2020: विश्व क्षय रोग दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है जानिए उसके लक्षण और बचने के उपाय

    Vishwa Tapedik Diwas 2020 Hindi: दोस्तों हर साल 24 मार्च के दिन विश्व तपेदिक/क्षयरोग दिवस मनाया जाता है इसे मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को टीबी यानी ट्यूबरक्लोसिस बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी के बारे में जागरूक करना है।

    आज के इस लेख में हम आपको वर्ल्ड ट्यूबरकुलोसिस डे कब क्यों और कैसे मनाया जाता है तथा तपेदिक होने के लक्षण तथा क्षयरोग से बचने के उपाय के बारे में भी बताने जा रहे हैं जिससे आप आसानी से टीबी जैसी जानलेवा बिमारी से छुटकारा पा सकते हैं।


    24 March 2020: World Tuberculosis Day Date TB Diwas in Hindi
    24 March 2020: World Tuberculosis Day Date TB Diwas in Hindi

    ट्यूबरक्लोसिस/तपेदिक या टीबी किसे कहते हैं:

    टीबी ट्यूबरक्लोसिस बैक्टीरिया से होने वाली एक बीमारी है जो ज्यादातर फेफड़ों में होती है और फेफड़ों की टीबी हवाओं के जरिए छींकने या खांसने के दौरान एक दूसरे में फैलती है यह फेफड़ों के अलावा मुंह, लिवर, गले, दिमाग, किडनी या यूट्रस में भी हो सकती है परंतु इस तरह की टीबी इंसानों से एक दूसरे में नहीं फैलती।


    टीबी का इलाज संभव है परंतु यह इतनी खतरनाक इसलिए मानी जाती है क्योंकि टीबी शरीर के जिस हिस्से में होती है वह उस हिस्से को धीरे धीरे बेकार करना शुरू कर देती है चाहे वह फेफड़ों की टीबी हो या फिर शरीर के किसी और अंग की।

    2014 में की गई डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट की मानें तो उस समय इस बीमारी से लगभग 1500000 लोगों की मृत्यु हो गई थी।


    यह भी पढ़ें 👉 कोरोना वायरस क्या है? जानिए Coronavirus के लक्षण इससे बचने के उपाय तथा इलाज

    कब मनाया जाता है विश्व टीबी दिवस या क्षय रोग दिवस

    24 मार्च के दिन हर साल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्व टीबी दिवस मनाया जाता है इस साल भी विश्व तपेदिक या क्षयरोग दिवस 24 मार्च 2020 को मंगलवार के दिन मनाया जाएगा।

    आपको बता दें कि International TB Day 1882 के उस दिन को याद करने के लिए मनाया जाता है, जब डॉक्टर रॉबर्ट कोच (Dr Robert Koch) ने घोषणा की थी कि उन्होंने टीबी का कारण बनने वाले जीवाणु की खोज कर ली है और उनकी इस खोज ने इस जानलेवा बीमारी का निदान और इलाज का रास्ता खोल दिया था।


    क्यों मनाया जाता है विश्व ट्यूबरक्लोसिस डे

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की एक रिपोर्ट की माने तो हर दिन 4000 से ज्यादा लोग टीबी की बीमारी से अपनी जान गवा देते हैं, साथ ही 30,000 से ज्यादा लोग इस बीमारी के शिकार हो जाते हैं ऐसे में लोगों को इस जानलेवा बीमारी से बचाने और उन्हें जागरूक करने के लिए ही विश्व क्षय रोग दिवस मनाया जाता है।


    टीबी को समाप्त करने के वैश्विक प्रयासों द्वारा साल 2000 और 2018 के बीच 58,000,000 जीवन बचाए गए।


    2018 में टीबी से बीमार होने वाले लोगों की संख्या लगभग 10,000,000 थी।


    2018 में टीबी से करीबन 1,500,000 लोग मर गए थे।


    यह भी पढ़ें 👉 विश्व कैंसर दिवस 2020: जानिए कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है वर्ल्ड कैंसर डे, जाने थीम

    विश्व तपेदिक दिवस की थीम | World TB Day 2020 Theme In Hindi

    इस 2020 की विश्व क्षय रोग दिवस या वर्ल्ड ट्यूबरक्लोसिस डे की थीम ‘It's time to End TB’ जिसका हिंदी मतलब 'यह टीबी खत्म करने का समय है' होगा।


    इस साल और पिछले कुछ सालों की थीम:
    साल थीम
    2020 यह टीबी खत्म करने का समय है
    2019 यह समय है
    2018 वांटेड: टीबी मुक्त दुनिया के लिए नेतृत्वकर्ता
    2017 यूनाइट टू एंड टीबी
    2016 टीबी खत्म करने के लिए एकजुट हों
    2015 टीबी खत्म करने के लिए कमर कस लें
    2014 तीन मिलियन तक पहुंचें: सभी के लिए एक टीबी परीक्षण, उपचार और इलाज
    2013 मेरे जीवनकाल में टीबी बंद करो
    2012 टीबी से मुक्त दुनिया के लिए कॉल करें
    2011 उन्मूलन की ओर लड़ाई को बदलना
    2010 कार्रवाई में तेजी लाने के लिए नवाचार करें
    यह भी पढ़ें 👉 विश्व एड्स दिवस कब, क्यों व कैसे मनाते है?

    कैसे मनाया जाता है विश्व टीबी दिवस:

    वर्ल्ड ट्यूबरक्लोसिस डे के अवसर पर लोगों के बीच जाकर जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाते हैं और लोगों को टीबी जैसी खतरनाक बीमारी से बचने और उन्हें अच्छे इलाज तथा लक्षणों के बारे में भी बताया जाता है साथ ही टीबी जैसी बीमारी को हमेशा के लिए खत्म करने का संकल्प भी किया जाता है और इस साल की थीम काफी खास है।

    भारत में सरकार द्वारा चलाए जाने वाले डॉट्स सेंटर पर भी लोगों को टीबी का सही इलाज कराने की सलाह दी जाती है और भारत सरकार द्वारा यह मुफ्त कार्यक्रम है।


    टीबी के लक्षण, बचने के उपाय और इलाज:

    TB के लक्षण आसानी से पहचाने जाने वाले है ऐसे में अगर सही समय पर आप तपेदिक के लक्षणों की पहचान कर लेते है तो आप इसका इलाज करवा कर जल्द से जल्द इस बिमारी से छुटकारा पा सकते है परन्तु अगर आप इससे बचने के उपायों को अपनाते है तो आप इससे बच भी सकते है।


    क्षयरोग रोग के लक्षण | Symptoms:

    • 3 हफ्ते से ज्यादा खांसी आना,
    • खांसी के साथ बलगम आना,
    • कभी कबार खांसी में खून आना,
    • वजन में निरंतर कमी आना,
    • भूख लगना कम होना,
    • शाम या रात के समय बुखार चढ़ना,
    • सांस लेने में परेशानी होना या सांस लेते समय सीने में दर्द होना आदि,

    यह भी पढ़ें 👉 स्मॉग क्या है? कैसे बनता है, स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव और इससे बचने के उपाय

    टीबी से बचने के उपाय | Precautions:

    👉 यह हवा से फैलने वाली बीमारी है इसीलिए संक्रमित व्यक्ति से दूर रहें और भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें।


    👉 3 हफ्ते से ज्यादा खांसी आने पर बलगम की जांच अवश्य कराएं।


    👉 अगर आपको टीबी हो गई है तो इसका पूरा कोर्स करें बीच में ही दवाई लेना ना बंद करें।


    👉 टीबी का इलाज संभव है इसीलिए घबराए नहीं सरकारी अस्पताल जाकर अपना इलाज मुफ्त कराएं।


    👉 अस्पताल या किसी सार्वजनिक जगह पर जाते समय मुंह को ढक कर रखें।


    टीबी का इलाज | Treatment:

    दोस्तों अगर सही समय पर टीबी के लक्षणों को पहचान लिया जाए और इसकी जांच करा ली जाए और यह रोग पकड़ में आ जाए तो उसका इलाज संभव है और भारत सरकार द्वारा इसका इलाज मुफ्त भी है आपको टीबी की जांच या इलाज के लिए पैसे देने नहीं देने होते।

    इसके लिए आप डॉट्स सेंटर या सरकारी अस्पताल जाकर अपना इलाज करा सकते हैं इसका कोर्स 6 से 8 महीने का होता है आपको पूरी तरह से ठीक होने के लिए टीबी का पूरा कोर्स करना चाहिए नहीं तो यह आपको दोबारा भी हो सकती है।


    यह भी पढ़ें 👉 ई-सिगरेट क्या होती है, भारत सरकार ने इसकी बिक्री पर क्यों लगाया बैन

    अन्तिम शब्द

    दोस्तों आपको TB से घबराने की आवश्यकता नहीं है भारत में इसका पक्का इलाज मौजूद है आप Dots से हाथ मिलाकर TB को ना कह सकते है, साथ ही ऊपर बताई गयी बातों का भी आप ख़ास ख्याल रखें, जिससे इस जानलेवा बिमारी को हराया जा सके।

    आपको World Tuberculosis Day 2020 in Hindi की यह जानकारी (Information) अच्छी लगी तो इसे फेसबुक और Whatsapp पर भी जरूर शेयर करें।

    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer