-->

History of Yoga in Hindi: क्या है योग का इतिहास और इसके देवता और जनक

    Advertisement

    History of Yoga in Hindi: योग क्या है जानिए योग का इतिहास, उत्पत्ति और विकास

    What is Yoga in Hindi: योग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द 'युज' से हुई है जिसका अर्थ एकजुट होना, जोड़ना या शामिल होना होता है। अथार्त योग शब्द का पर्याय शरीर का चेतना से मिलन होता है क्योंकि योगग्रंथ की माने तो योग करने से इंसान की चेतना ब्रह्मांड की चेतना से जुड़ जाती है, तो वहीं पतंजलि योग के अनुसार योग की परिभाषा मन पर नियंत्रण रखना है।

    योग का अस्तित्व सिंधु घाटी सभ्यता के समय से ही है और खुदाई के दौरान मिले अवशेषों पर शारीरिक योग मुद्राएं इस बात का सबूत देती है कि योग का इतिहास अत्यंत प्राचीन है।


    क्या आप जानते हैं योग का भगवान शिव से क्या संबंध था?
    History of Yoga in Hindi - योग का इतिहास
    History of Yoga in Hindi - योग का इतिहास

    आज के इस लेख में हम आपको योग का इतिहास (History of Yoga in Hindi) और भगवान शिव और योग के बीच का संबंध के बारे मे बताने का प्रयास करेंगे। साथ ही योग का विकास और इसकी उत्पत्ति के विषय में भी जानेंगे।


    योग का इतिहास - History of Yoga in Hindi

    योग का इतिहास साल दो साल का नहीं बल्कि हजारों साल पुराना है ऐसी मान्यता है कि पृथ्वी पर सभ्यता की शुरुआत के साथ ही योग किया जाता रहा है। परंतु आज के युग और तब के योग में काफी बदलाव आए हैं क्योंकि कई योग गुरुओं ने इसे व्यवस्थित करने का कार्य भी किया है।


    दरअसल योग का इतिहास का पता उत्तरी भारत की सिंधु घाटी सभ्यता में हड़प्पा और मोहनजोदड़ो की खुदाई से चलता जिसमें सिक्के और कई अवशेषों पर ध्यान/योग मुद्राएं चित्रित थी इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि योग का इतिहास करीब 5000 वर्ष पुराना है।

    हालांकि योग का उल्लेख साहित्य और सभी 4 वेदों ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अर्थवेद में भी किया गया है और वेद ही सबसे प्राचीन साहित्य माने जाते है।


    इतना ही नही पूर्व शास्त्रीय काल में महाभारत और श्रीमद भगवत गीता में भी योग के बारे में कई बातें लिखी गई हैं। श्रीमद भगवत गीता में ज्ञान योग, भक्ति योग, कर्म योग और राजयोग का उल्लेख भी मिला है। साथ ही बौद्ध और जैन परंपराओं, रामायण, महाकाव्य, शैव और वैष्णव में भी योग का उल्लेख है।

    ऐसा माना जाता है कि वैदिक काल में सूर्य को अधिक महत्व दिए जाने के कारण ही सूर्य नमस्कार आसन की प्रथा का आविष्कार हो सका।

    मध्य युग में पतंजलि के अनुयायियों ने आसन क्रियाएं प्राणायाम और शरीर और मन की सफाई पर अधिक महत्व देकर योग को एक अलग ही दिशा में मोड़ दिया और योग का यह स्वरूप 'हठयोग' के नाम से जाना जाता है।


    यह भी पढ़ें: Swami Dayananda Saraswati Jayanti 2020: जानिए आर्य समाज संस्थापक की Biography

    भारत में योग का विकास

    भारत समेत दुनियाभर के देशों ने योग का विकास करने की कोशिश की है और भारत के कई योग गुरुओं ने शुरू से ही योग का प्रचार-प्रसार और इसका विकास किया है। चाहे वह पांचवी शताब्दी में महर्षि पतंजलि हो, 15 शताब्दी के शिवानंद सरस्वती जी हो, 16वीं शताब्दी के तुलसीदास जी और 18वीं शताब्दी के रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद जी हो या आज के प्रधानमंत्री मोदी जी इन सभी ने योग के विकास और इसके प्रचार-प्रसार पर काफी जोर दिया और योग को दुनिया भर में फैलाया।


    स्वामी विवेकानंद जी ने शिकागो में सम्मेलन के दौरान अपने ऐतिहासिक भाषण में दुनिया को योग से परिचित कराया। जिसके बाद से दुनियाभर के लोग योग की तरफ आकर्षित हुए।

    भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा गया जिसे 11 दिसंबर सन 2014 को बहुमत के साथ स्वीकार लिया गया और दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में योग का दुनियाभर में प्रसार हुआ और अब 21 जून योग दिवस के रूप में अपनी पहचान बना चुका है।


    बताया जाता है कि पश्चिमी देशों में बीसवीं शताब्दी के इर्द गिर्द योग ठीक तरह से विकास हो पाया। हालांकि उपनिषदों में योग को लेकर कई तरह की बातें कहीं गई है इसलिए योग का ठीक प्रकार से विकास कब हुआ इसके बारे में कोई भी सटीक तथ्य उपलब्ध नहीं है।


    योग का जनक (पिता) किसे कहा जाता है?

    महर्षि पतंजलि को आधुनिक योग के जनक (Father) के रूप में जाना जाता है क्योंकि उन्होंने योग के सभी पहलुओं को योग सूत्र के रूप में सुव्यवस्थित किया। पांचवी शताब्दी में महर्षि पतंजलि ने जो योग सूत्र (राजयोग) लोगों को दिया उसे अष्टांग के नाम से जाना जाता है। और आज के सभी योग इसी सूत्र पर आधारित है। राजयोग के 8 अंग है यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि। पतंजलि योग सूत्र में करीब 196 सूत्र हैं।


    पतञ्जलि एक महान चिकित्सक थे उन्हें आयुर्वैदिक ग्रन्थ चरक संहिता के जनक के रूप में भी जाने जाते है, कुछ विद्वानों के अनुसार उनका जन्म उत्तर प्रदेश के गोंडा में माना जाता है और दूसरी शताब्दी में वे काशी में मौजूद थे। और वे व्याकरणाचार्य पाणिनी के शिष्य थे, पतञ्जलि को शेषनाग का अवतार माना जाता है।


    यह भी पढ़ें: भगवान महावीर स्वामी का जीवन परिचय और इतिहास

    भगवान शिव और योग का संबंध

    योग ग्रंथों और कथाओं के अनुसार भारतीय संस्कृति में योग का प्रारंभ भगवान शिव के बाद कुछ वैदिक ऋषि मुनियों द्वारा हुआ और इसका प्रसार भगवान शिव के बाद उनके सात शिष्यों ने ग्रीष्म सक्रांति के बाद आने वाली पहली पूर्णिमा के दिन योग की दीक्षा देकर किया। बताया जाता है इस दौरान दक्षिणायन होने के कारण आध्यात्मिक साधना करने वालों को प्रकृति का सहयोग मिलता है।


    योग का देवता (God of Yoga) कौन है?
    भगवान शिव को योग, ध्यान और कलाओं का संरक्षक देवता (God) माना जाता है। भारतीय संस्कृति में भगवान शिव को आदि योगी और आदि गुरु के रुप में जाना जाता है। साथ ही महावीर और भगवान बुद्ध भी योग का विस्तार करने वाले युग पुरुषों में से थे।


    अंतिम शब्द

    दोस्तों योग भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग रहा है और आजतक पूरी दुनिया में योग साधना का लाभ लाखों लोगों को हुआ है। साथ ही प्राचीन काल से ही योग के महान गुरुओं और आचार्यों द्वारा इसे परिरक्षित भी किया जाता रहा है। और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संयुक्त राष्ट्र संघ में योग के मुद्दे को उठाना काफी महत्वपूर्ण कदम था जिसके फलस्वरूप आज हम 6वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मना रहे है।


    अब तो आप योग के इतिहास, विकास और उत्पत्ति के बारे में समझ ही गए होंगे अगर आपको History of Yoga in Hindi की यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ भी जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इस तरह की महत्वपूर्ण जानकारी मिल सके।

    The End
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer