-->

अंतर्राष्ट्रीय गणित दिवस 2021: International Day of Mathematics की थीम और इतिहास

    International Day of Mathematics 2021: अंतर्राष्ट्रीय गणित दिवस, जानिए थीम और इतिहास

    इंटरनेशनल डे ऑफ़ मैथमेटिक्स 2021: गणित भारत ही नहीं अपितु दुनिया भर के लिए एक उपयोगी विषय है, आज गणित के कारण ही असंभव लगने वाली गणनाएं की जा सकी है, और हमें इस दुनिया के कई रहस्य का भी पता चला है।

    गणित का महत्व और हर किसी के जीवन में इसकी आवश्यक भूमिका का जश्न मनाने के लिए हर साल 14 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय गणित दिवस (International Day of Mathematics) मनाया जाता है, इसकी शुरुआत वर्ष 2019 में यूनेस्को द्वारा की गई थी। हालांकि इससे पहले और आज भी 14 मार्च को कई देशों में गणित के कांस्टेंट (π) का दिन 'पाई दिवस' (Pi Day) मनाया जाता है क्योंकि यह दिन पाई के मान 3.14 के आधार पर चुना है जो 14 मार्च को दर्शाता है।


    International Day of Mathematics in hindi

    अंतर्राष्ट्रीय गणित दिवस कब मनाया जाता है?

    गणित के महत्व और सभी के जीवन में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका का जश्न मनाने के उद्देश्य से 26 नवंबर 2019 को यूनेस्को के आम सम्मेलन के 40वें सत्र में अंतरराष्ट्रीय गणित दिवस (International Day of Mathematics) को हर साल 14 मार्च को मनाने की घोषणा की गई। इसके बाद अंतरराष्ट्रीय गणित संघ द्वारा 14 मार्च 2020 को पहला इंटरनेशनल डे ऑफ मैथमेटिक्स मनाया गया जिसकी थीम Mathematics is Everywhere (गणित हर जगह) थी।

    भारत में भी हर साल 22 दिसंबर को महान गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन के जन्मदिवस को 'राष्ट्रीय गणित दिवस' के रूप में मनाया जाता है।

    इसके साथ ही 14 मार्च के दिन अल्बर्ट आइंस्टाइन की जयंती और स्टीफन हॉकिंस की पुण्यतिथि भी होती है।


    गणित दिवस की थीम: International Day of Mathematics 2021 Theme

    हर साल गणित दिवस एक नई थीम (विषय) के साथ मनाया जाता है। इस साल 2021 में दूसरा अंतरराष्ट्रीय गणित दिवस मनाया जा रहा है जिसकी Theme (विषय) है: Mathematics for a better world (एक बेहतर दुनिया के लिए गणित)।


    गणित का अंतरराष्ट्रीय दिवस (IDM) हर साल विश्व स्तर पर सभी देशों के स्कूलों, संग्रलयों एवं अन्य शैक्षिक संस्थानों में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है, इस मौके पर गणित संबंधी कई प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है, और मॉडल या प्रोजेक्ट बनाने जैसे क्रियाकलाप भी किए जाते हैं।

    इसके साथ ही International Mathematical Union (Mathunion.org) द्वारा एक विश्व पोस्टर चैलेंज भी आयोजित किया जाता है।

    कोरोनावायरस महामारी के चलते इस साल बड़े स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन करना संभव नहीं हो सकेगा साथ ही 14 मार्च की तारीख रविवार का दिन है इसलिए स्कूलों, कॉलेजों एवं अन्य शैक्षिक संस्थानों में इसे एक दिन पहले या बाद में या इसके आसपास जश्न मनाने का विकल्प तैयार किया जा सकता है।


    अंतरराष्ट्रीय गणित दिवस मनाए जाने का उद्देश्य और प्रमुख लक्ष्य

    • शिक्षा में गणित के महत्व के बारे में आम लोगो कि समझ में सुधार लाना,

    • विकासशील देशों में विशेष तौर से लड़कियों और बच्चों पर ध्यान देते हुए उनकी गणितीय और वैज्ञानिक शिक्षा की क्षमता निर्माण में योगदान देना,

    • लैंगिक समानता हासिल करते हुए महिलाओं और लड़कियों को गणित में सशक्त बनाना,

    • आपदाओं, महामारियो एवं उभरते रोगों तथा आक्रमक प्रजातियों से लड़ने में गणित की भूमिका को जागरूक करना,

    • टेक्नोलॉजी और समाज के प्रबंधन में सफलताओं के बीज के रूप में गणितीय विज्ञान में बुनियादी अनुसंधान के महत्व पर जोर देना,

    • आधुनिक समाज के संगठन में गणित की भूमिका पर प्रकाश डालना जिसमें आर्थिक, वित्तीय, स्वास्थ्य और परिवहन प्रणालियों सहित मानव कल्याण की तलाश में दूरसंचार यंत्र आदि शामिल हैं। ये ही इसका उद्देश्य एवं प्रमुख लक्ष्य है।


    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post