मोबाइल का बैटरी बैकअप बढ़ाने, बचाने और चार्ज करने के तरीके

मोबाइल की बैटरी कैसे बचाएं या बैकअप बढाएं? (Battery चार्ज करने का सही तरीका)

एंड्रॉयड स्मार्टफोन यूजर्स को एक समय के बाद Battery Backup को लेकर कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, ऐसे में वे मोबाइल की बैटरी कैसे बचाएं या मोबाइल का बैटरी बैकअप कैसे बढ़ाये इसके बारे में जानना चाहते हैं। इसलिए यहां हम आपको बैटरी बचाने के तरीके के साथ ही बैटरी चार्ज करने के सही तरीके और बैटरी खराब होने के लक्षण के बारे में भी जानकारी देने जा रहे हैं।

ज्यादातर मोबाइल फोंस में (लिथियम-आयन बैटरी) का इस्तेमाल किया जाता है, जिनका जीवन काल 2 से 3 साल तक का होता है, इसके बाद यह पहले जितनी एफिशिएंसी से काम नहीं कर पाती। ऐसे में आप बैटरी बचाने के कुछ ख़ास तरीके अपनाकर बैटरी की बचत कर सकते है और लगभग पहले जितना ही बैकअप पा सकते है।

मोबाइल का बैटरी बैकअप कैसे बढ़ाये
मोबाइल का बैटरी बैकअप कैसे बढ़ाये

 

Mobile का Battery Backup कैसे बढ़ाये?

मोबाइल की बैटरी लाइफ लगभग दो-तीन साल की होती है, इसके बाद आपकी बैटरी पहले जैसा बैकअप नहीं देती। हालांकि आप यहां बताए गए कुछ खास उपाय आजमा कर Battery Backup को बढ़ा सकते हैं:


 

 

1. स्क्रीन की ब्राइटनेस को कम पर रखें।

स्क्रीन की ब्राइटनेस को विजिबिलिटी के हिसाब से कम से कम लेवल पर रखें। ध्यान रखें कि आप ऑटो ब्राइटनेस फीचर का इस्तेमाल न कर रहे हो। आपको बता दें कि ऑटो ब्राइटनेस फीचर इस्तेमाल करने से आपके लाइट सेंसर हमेशा एक्टिवेट रहते हैं जो बैटरी की खपत का बढ़ाते हैं।

 

2. स्क्रीन टाइम आउट को 10 से 15 सेकंड के बीच रखें।

स्क्रीन की लाइट ऑटोमेटिक बंद होने की अवधि को 10 से 15 सेकंड के बीच रखें इससे फोन के इस्तेमाल न होने पर इसकी स्क्रीन लाइट्स जल्द से जल्द टर्न ऑफ हो जाएगी। इससे काफी बैटरी भी बचेगी।

ऑटो टर्न ऑफ स्क्रीन या स्क्रीन टाइम आउट फीचर को इनेबल करने के लिए सेटिंग में डिस्प्ले में जाए और यहां Screen Timeout में जाएं।

 

3. कीबोर्ड और अन्य हैप्टिक फीडबैक के वाइब्रेशन को बन्द रखें।

कई बार कीपैड से टाइपिंग करते समय किसी भी लेटर को टाइप करने पर एक हल्का सा वाइब्रेशन होता है, या मैसेज अथवा मिसकॉल के बाद फोन उठाने पर वाइब्रेशन महसूस होता है, इसे ‘हैप्टिक फीडबैक‘ कहा जाता है।

इसे इनेबल करने से आपके फोन का वाइब्रेशन काम करने लगता है, जिससे बैटरी की खपत बढ़ जाती है, इसलिए इसे बंद ही रखें।

 

4. इस्तेमाल न होने वाले ऐप्स को फोन से हटा दें।

एंड्रॉयड स्मार्टफोन में मौजूद थर्ड पार्टी एप्स आपके फोन में जगह (स्पेस) तो लेते ही है, साथ ही यह बैकग्राउंड में चलते रहते हैं। जिससे आपके प्रोसेसर पर जोर पड़ता है और प्रोसेसर को इस टास्क को चलाने के लिए अधिक पावर की आवश्यकता पड़ती है।

ऐसे में अननेसेसरी ऐप्स को अपने फोन से हटाकर आप बैटरी की अननेसेसरी कंसम्पशन को कम कर सकते है और Battery भी Save कर सकते है।

 

5. बैकअप बढ़ाने के लिए बैटरी सेवर ऐप का इस्तेमाल न करें।

लोग अक्सर बैटरी या फोन हैंगिंग की समस्या होने पर बैटरी सेवर ऐप या फोन क्लीनर जैसे ऐप्स का इस्तेमाल करने लग जाते हैं। लेकिन एक्सपर्ट्स का मनाना है कि यह मात्र एक मिथ्या है, इस तरह के ऐप्स कुछ दूसरे एप्स को काम करने से जरूर रोक देते हैं लेकिन खुद बैकग्राउंड में चलते रहते हैं।

अब ज्यादातर एंड्रॉयड स्मार्टफोन में बैटरी सेवर और मोबाइल क्लीनर जैसे फीचर्स कंपनी द्वारा पहले से ही दिए जाते हैं, आप जरूरत पड़ने पर उनका इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

6. इस्तेमाल न होने पर इंटरनेट, GPS, WiFi और ब्लूटूथ आदि को बंद कर दें।

इस्तेमाल या आवश्यकता ना होने पर आपको इंटरनेट, GPS, वाई-फाई और ब्लूटूथ आदि बंद कर देना चाहिए, ऐसा न करने से यह बार-बार नेटवर्क या कनेक्शन के लिए सर्च करते रहते हैं, जिससे आपका बैटरी बैकअप प्रभावित हो सकता है।

 

7. पावर सेवर मोड या बैटरी ऑप्टिमाइजर का इस्तेमाल करें।

आजकल के ज्यादातर स्मार्टफोंस में बैटरी को लंबे समय तक बचाए रखने के लिए बैटरी सेवर, पावर सेवर मोड या बैटरी ऑप्टिमाइज जैसे फीचर दिए जाते हैं, आप इन फीचर्स की मदद से अपनी मोबाइल की बैटरी बैकअप को कुछ हद तक जरूर बढ़ा सकते हैं।

यह फंक्शन इनेबल करने से बैकग्राउंड टास्क आदि को Restrict कर दिया जाता है, जिससे वह बैकग्राउंड डाटा इस्तेमाल नहीं कर पाते और बैटरी खपत कम हो जाती है।

 

8. डार्क थीम या डार्क मॉड का इस्तेमाल करें।

कुछ खास तरह के स्क्रीन टाइप वाले फोनों के लिए डार्क मॉड या डार्क थीम काफी मददगार साबित हो सकती है ऐसी थीम्स आंखों को तो सुरक्षित रखने में तो मदद करती ही है साथ ही यह कम बैटरी खपत भी करती हैं।

एंड्रॉयड के नए वर्जनस में डार्क मॉड या डार्क थीम का फीचर दिया जाने लगा है, हालांकि आकर आपके फोन में या फीचर नहीं है तो अब कुछ पॉपुलर और खास ऐप्स भी अब डार्क मोड फीचर के साथ आते हैं जैसे व्हाट्सऐप, टेलीग्राम और यूट्यूब आदि।

 

9. फ्रिक्वेंटली इस्तेमाल न होने वाले बैकग्राउंड एप्स को क्लोज करें।

बार-बार इस्तेमाल न होने वाले एप्स को आप फोर्स स्टॉप कर सकते हैं, इससे यह लंबे समय तक बैकग्राउंड में काम नहीं कर पाएंगे और इससे आपकी हैंगिंग की समस्या भी हल हो जाएगी।

अपने Mobile Phone के रीसेंट एप्स बार-बार क्लियर ना करें, अगर आप किसी ऐप का इस्तेमाल लगातार करते हैं तो उसे बैकग्राउंड में रन होने दें। ऐसा करने से जब आप कोई ऐप रीसेंट ऐप्स से हटा देते हैं और कुछ देर बाद उसे दोबारा ओपन करते हैं तो वह एप प्रोसेसिंग लेता है, जिससे आपके प्रोसेसर पर लोड बढ़ता है और आपका आपके Mobile Phone की Battery पर भी इसका प्रभाव पड़ता है।

 

10. चार्जिंग के लिए कंपनी के चार्जर का इस्तेमाल करें।

फोन का बैटरी बैकअप इस बात पर भी निर्भर करता है, कि उसे किस चार्जर (डाटा केबल/एडाप्टर) से चार्ज किया गया है, यदि आप कंपनी द्वारा निर्धारित किए गए मापदंडों और स्पेसिफिकेशन वाले चार्जर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपके फोन का बैटरी बैकअप तो अच्छा होगा ही साथ ही इसकी बैटरी लाइफ भी बढ़ जाएगी।

लोकल चार्जर या नकली या डुप्लीकेट चार्जर अक्सर आपके फोन की बैटरी और इसके बैकअप को प्रभावित करते हैं, इसीलिए संभव हो तो कंपनी या फोन के साथ आए चार्जर का इस्तेमाल करें।

 

Mobile को Charge करने का सही तरीका:

कई बार फ़ोन को गलत तरीके से चार्ज कराना भी इसके बैटरी बैकअप पर असर डालता है। ऐसे में चार्ज करने के कुछ सही तरीकों को अपनाकर आप अपने मोबाइल फ़ोन की बैटरी लाइफ को बढ़ा सकते हैं। यह कुछ ऐसे ही टिप्स दिए गए हैं।


1. फ़ोन चार्ज करने के लिए ओरिजिनल चार्जर का इस्तेमाल करे।

किसी भी डिवाइस को हमेशा उसी चार्जर से चार्ज करें, जो आपको उसके साथ मिला है या कम्पनी द्वारा रेकमंड किया गया हो। अगर आपके पास फोन के साथ मिला चार्जर उपलब्ध नहीं है तो आप यह चेक कर ले की जिस चार्जर से आप अपना Mobile Phone चार्ज करने जा रहें है उस चार्जर की स्पेसिफिकेशन (जैसे एंपियर और वोल्टेज) आपके चार्जर से मैच करती हो।

 

2. फोन की बैटरी को ओवर चार्ज ना करें।

अपने Mobile Phone को कभी भी चार्जिंग पर लगाकर ना छोड़े यानि की उसे ओवर चार्ज ना करें. कई लोग रात को अपना Mobile Phone चार्जिंग पर लगा कर सो जाते हैं, ऐसा करना मोबाइल, उसकी बैटरी और उनके लिए भी घातक साबित हो सकता है।

 

3. चार्जिंग करते समय फोन का इस्तेमाल ना करें।

अपने Mobile Phone को चार्ज करते समय कभी भी इस्तेमाल ना करें या फिर उसमें कोई डाउनलोडिंग लगाकर ना छोड़ें। जब भी आप अपने Mobile Phone को चार्ज करते हैं, अपने Mobile Phone के सभी एप्लीकेशन को बैकग्राउंड क्लियर करके ही चार्ज करें और हो सके तो इंटरनेट वाईफाई हॉटस्पॉट यह सभी चीजें भी Off रखें। इससे आपका फ़ोन जल्दी चार्ज होगा और बैटरी भी लंबी चलेगी।

 

4. बैटरी को हर बार 100% चार्ज ना करें।

हमेशा अपने Mobile Phone को 100% चार्ज ना करें, क्योंकि कुछ जानकार बैटरी को हर बार 100% चार्ज करना सही नहीं मानते बताया जाता है, इससे बैटरी जल्दी खराब हो सकती है। ऐसे में आप अपने Mobile Phone को ज्यादतर 80% से 95% या 96% तक ही चार्ज करें, ऐसा करने से आपकी Battery को 100% की आदत नहीं लगती और आप की Battery लंबे समय तक चलती है। हालंकि महीने में दो-चार बार इसे 100% भी चार्ज करें।

 

मोबाइल बैटरी खराब होने के लक्षण

मोबाइल बैटरी पूरी तरह खराब होने से पहले कुछ खास लक्षण दिखाई देते हैं, जिससे समझ जाना चाहिए कि आपकी बैटरी अब खराब हो चुकी है और इसे तुरंत बदल देना चाहिए।

  • फोन में पर्याप्त बैटरी होने के बावजूद अचानक बंद हो जाना।
  • फोन को रीस्टार्ट करने या स्क्रीन लॉक करने के बाद बैटरी प्रतिशत का कम या ज्यादा होना।
  • फोन चार्जिंग पर लगाने पर ही चालू होना।
  • मोबाइल पीछे की तरफ से अचानक गर्म हो जाना।
  • मोबाइल का अपने आप रीस्टार्ट होना।
  • बैटरी का फूल जाना।
  • फोन का बिल्कुल चालू न होना, आदि।

 

 

बैटरी बचाने वाला एप्स कौन सा है?

कुछ जानकारी और एक्सपर्ट द्वारा मोबाइल की बैटरी बचाने के लिए किसी भी तरह का बैटरी बचाने वाला ऐप्स इस्तेमाल करने की सलाह नहीं दी जाती है। आप चाहे तो (ग्रीनीफाई ऐप) का इस्तेमाल कर सकते हैं यह बैटरी बचाने में काफी इफेक्टिव और कारगर भी है।

 

अपने Mobile Phone मे Greenify कैसे Install करे:

  1. सबसे पहले आप Greenify को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड व इनस्टॉल कर ले। अब इसे ओपन कर ले और बताई गयी विधि को फोलो करते हुये इसे क्रियान्वित कर ले।

  2. Greenify - बैटरी बचाने वाला एप्स
    Greenify – बैटरी बचाने वाला एप्स

  3. सबसे पहले जो वेलकम स्क्रीन है वहाँ Next पर क्लिक कर दे.

  4. Next करने पर Working Mode खुलेगा वहाँ 3 ओप्सन होगें यदि आपका Mobile Phone Rooted नही है तो पहले ओप्सन पर क्लिक करे, यदि आपका Mobile Phone Rooted है तो दुसरे ओप्सन पर और यदि आपको पता नही है कि आपका Mobile Phone Rooted है या नही तो आप तीसरे ओप्सन पर क्लिक कर के Next कर दे।

  5. अब आपके सामने Automatic Hibernation का पेज खुलेगा वहाँ पर एक-एक कर के सभी ओप्सन पर क्लिक कर के उन्हे एक्टिवेट कर दे।

    जैसे एक्सिसेबिलिटि , डिवाइस एडमिन कि अनुमति इत्यादि। या फिर Not now पर क्लिक करे और Next कर दे।


  6. बस हो गया आपके Mobile Phone पर यह टुल एक्टिवेट अब जो एप बेवजह चल रहें है उन्हें स्लेक्ट करके Hibernate कर दे।

Greenify डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करे
आप रुट करके सिस्टम के Apps को भी रोक सकते है।

ध्यान रखें की इसका इस्तेमाल करने से आपके एप्लीकेशन के Notification आने भी बंद हो जायेंगे. तो अगर आपने फोन की बैटरी से कुछ ज्यादा ही परेशान है तभी इस तरीकें को अपनाए।

 

बैटरी को 48 घंटे कैसे चलाएं?

आप फ़ोन में अल्ट्रा पॉवर सेविंग मोड का इस्तेमाल करके बैटरी को 24-48 घंटे तक चला सकते है। इस दौरान आप कुछ बेहद जरूरी सर्विस जैसे फोन, मैसेज, ब्राउज़िंग और कुछ ख़ास ऐप्स जैसे व्हाट्सऐप, यूट्यूब आदि का ही इस्तेमाल कर पाएंगे।


फोन को कब चार्ज करे?

कुछ एक्सपर्ट्स के अनुसार जब Phone की Battery 15% से 20% हो तभी आप उसे चार्जिंग पर लगाएं और महीने में एक-दो बार इसे अपने आप स्विच ऑफ होने दें। इससे आपकी Mobile Phone की Battery में जो हर सेकंड में 1% Battery खत्म होने की जो प्रॉब्लम आती है वह भी नहीं आएगी।


डिसक्लेमर: यहाँ बताई गई टिप्स किसी आपातकालीन परिस्थिति में लागू नहीं की जानी चाहिए। इसके अलावा यह टिप्स एक्सपर्ट्स द्वारा सुझाए गए हैं, जरूरी नहीं है यह सभी के लिए काम करते हो! इसलिए इनमें से किसी भी टिप्स को अपने जोखिम पर ही अपनाएं क्योंकि किसी भी तरह के नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *