क्या GB, OG, FM जैसे व्हाट्सएप का इस्तेमाल सुरक्षित है?

व्हाट्सएप के मोडिफाइड वर्जन जैसे GB, OG और FM Whatsapp का इस्तेमाल करना बिल्कुल सुरक्षित (Safe) नहीं है, क्योंकि ज़्यादातर ऐसे ऐप्स मैलवेयर के साथ आते हैं।

FM, GB और OG WhatsApp का इस्तेमाल Safe है या नहीं?

व्हाट्सएप आज के समय में सबसे लोकप्रिय मैसेजिंग एप्लिकेशन है, जिसका उपयोग करोड़ों लोग करते हैं। इसकी लोकप्रियता के कारण, कई थर्ड-पार्टी डेवलपर्स ने व्हाट्सएप के मॉडिफाइड वर्ज़न (जैसे GB WhatsApp, OG WhatsApp, और FM WhatsApp) को विकसित किया है। ये अनऑफिशियल व्हाट्सएप वर्ज़न एक्स्ट्रा फीचर्स और कस्टमाइजेशन विकल्प प्रदान करते हैं, जो आधिकारिक व्हाट्सएप ऐप में नहीं मिलते। लेकिन सवाल यह है कि क्या इन ऐप्स का उपयोग करना सुरक्षित (Safe) है?

OG, GB, FM Whatsapp Safe है या नहीं?
OG, GB, FM Whatsapp Safe है या नहीं?

GB, OG, FM व्हाट्सएप: क्या हैं ये?

GB WhatsApp, OG WhatsApp, और FM WhatsApp जैसे ऐप्स व्हाट्सएप के मॉडिफाइड वर्ज़न हैं, जिन्हें थर्ड-पार्टी डेवलपर्स द्वारा विकसित किया गया है। ये ऐप्स उपयोगकर्ताओं को अतिरिक्त फीचर्स और कस्टमाइजेशन विकल्प प्रदान करते हैं, जैसे:

  • थीम बदलना और इसे कस्टमाइज करना
  • रीड रिसीप्ट (ब्लू टिक और डबल टिक) को छिपाना
  • ऑनलाइन स्टेटस को छिपाना या हमेशा ऑनलाइन दिखाना
  • मीडिया शेयरिंग की अधिकतम सीमा बढ़ाना
  • एक ही फोन में एक से अधिक व्हाट्सएप अकाउंट्स का उपयोग करना आदि।
  • इसमें DND (ऑफलाइन मोड) का भी फीचर दिया गया है जिसे ऑन करने पर आपका नेट ऑन होने के बाद भी कोई मैसेज नही आता।
  • यहां किसी यूजर द्वारा आपको मैसेज भेज कर उसे डिलीट करने के बाद भी आपको वह दिखाई देता है।

यह सब व्हाट्सएप के ओरिजिनल वर्जन के साथ कर पाना असंभव है, इसीलिए लोग व्हाट्सएप के इन मॉडिफाइड वर्शन जैसे GB, OG, FM आदि का इस्तेमाल करते हैं। आपको बता दें कि यह सभी Original Whatsapp के Clone या Modded Versions (APKs) है।

 

क्या Modded WhatsApp Versions को Use करना Safe है?

व्हाट्सएप के मोडिफाइड वर्जन का इस्तेमाल करना खतरे से खाली नहीं है, ज़्यादातर मॉडिफ़ाइड व्हाट्सऐप अकाउंट मैलवेयर के साथ आते हैं। इसके साथ ही थर्ड-पार्टी डेवलपर्स या हैकर्स आपकी व्यक्तिगत जानकारी चुराकर इसका दुरुपयोग कर सकते हैं।

व्हाट्सएप खुद भी चेतावनी (Warning) दे चुका है कि, यदि आप इस तरह के अनऑफिसियल वर्जन का इस्तेमाल करते हैं तो आपका अकाउंट बैन (प्रतिबंधित) भी किया जा सकता है और कई लोगों के तो अकाउंट डिसेबल भी किए जा चुके हैं।

कई एक्सपर्ट्स के अनुसार इस तरह के व्हाट्सएप क्लोन ऐप्स में एंड-टू-एंड इंक्रिप्शन नहीं होता..! जिसके कारण आपके द्वारा किए जा रहे चैट 3rd पार्टी सर्वर के जरिए ट्रांसफर होती है, जो इंक्रिप्टेड नहीं होती इन्हें कोई भी व्यक्ति आसानी से देख और पढ़ सकता है।


यह ऐप्स ऑफिसियल वर्ज़न को मॉडिफाई करके बनाई गई होती है, इसीलिए इसमें सिक्योरिटी फीचर्स की कमी हो सकती है जो मालवेयर और वायरस इंजेक्ट कर सकती है। यह (Malware/Virus) आपके फोन के डाटा को भारी नुकसान पहुंचा सकता है।


 

आसानी से हैक हो सकते है ये ऐप्स

GB और FMWhatsApp जैसे मोडेड ऐप्स में सुरक्षा जोखिम होने के कारण यह हैकर्स के आसान निशाने होते है, जिन्हे आसानी से हैक कर हैकर्स फ़ोन पर कई फ़ंक्शन ऑन कर सकते हैं। क्योंकि यह आपके फोन में इंस्टॉल होने के साथ ही कैमरा, फोन और मैसेज आदि को एक्सेस कर सकते हैं, जिससे आपके फोन का डेटा और फाइनेंशियल डिटेल हैकरों और साइबर अपराधियों के पास जा सकती है।

ऐसे मोडेड ऐप्स का कोई ऑफ़िशियल वर्शन नहीं होता, इसे आधिकारिक व्हाट्सअप्प की तरह गूगल प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से डाउनलोड और अपडेट नही किया जा सकता, इसके लिए आपको किसी 3rd पार्टी वेबसाइट के जरिए इसे डाउनलोड और अपडेट करना होगा।


FMWhatsApp हुआ ट्रायडा नामक ट्रोजन वायरस शिकार?

FM WhatsApp एक बार अपनी कमी के चलते Triada virus attack का शिकार हो चुका है, दरअसल एफएम व्हाट्सएप के 16.80.0 वर्जन में एक कमी होने के कारण इसके यूजर्स के फोन में ट्रोजन वायरस डिटेक्ट किया गया।

Kaspersky (साइबर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट कंपनी) की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह एक नया वायरस है, जिसे “ट्रायडा” (Triada) कहा जाता है, यह ट्रोजन हॉर्स मालवेयर का हिस्सा है। Triada ट्रोजन वायरस सबसे पहले आपके डिवाइस के बारे में डेटा को इकट्ठा कर इस जानकारी के हिसाब से दूसरा ट्रोजन आपके Device में इंस्टॉल कर देता है। बाद में यह ट्रोजन वायरस आपको बिना पता चले आपके फोन में विभिन्न Paid Subscription को साइन अप कर देता है और बैकग्राउंड में Ads (विज्ञापन) चलने लगते हैं।

Trojan.AndroidOS.Whatreg.b, सबसे जटिल ट्रोजन है यह victim के फोन में व्हाट्सएप अकाउंट को Sign In करता है और लोगिन करने के बाद इलीगल एक्टिविटीज जैसे स्पैमिंग और इलीगल ट्रेडिंग करना शुरू कर देता है।

इसके अलावा, मैलवेयर सभी व्यक्तिगत जानकारी (सोशल नेटवर्क एकाउंट्स, पासवर्ड और बैंकिंग आदि) को इंटरसेप्ट करना शुरू कर देता है, जिसे आपने अपने फोन पर Store किया हुआ है।

 

मोडफाइड व्हाट्सएप के लोकप्रिय संस्करण:

GB, FM, OG, YO, Gold, Pink Whatsapp और Whatsapp Plus आदि कुछ सबसे लोकप्रिय व्हाट्सऐप क्लोन ऐप है, जिनका इस्तेमाल आपकी गोपनीयता और सुरक्षा के लिहाज से उचित नहीं है।

 

व्हाट्सएप के ऑफिशिअल वर्जन

व्हाट्सएप के केवल दो ही ऑफिशिअल वर्जन अवेलेबल है पहला व्हाट्सएप और दूसरा व्हाट्सएप बिजनेस इसके अलावा इंटरनेट पर मौजूद इसके अन्य वर्जन फेक है जो आपको कुछ फीचर्स का लालच देकर आपकी प्राइवेसी के लिए खतरनाक (Dangerous या Riskey) साबित हो सकते हैं।

यदि आप भी GB, FM, OG, YO, Gold, Pink Whatsapp, Whatsapp Plus या Whatsapp के इस तरह के किसी अन्य Unofficial Apps का इस्तेमाल करते हैं तो सावधान हो जाइए, कहीं ऐसा न हो कि इसके कुछ एक्स्ट्रा फीचर्स के चक्कर में आप अपना बड़ा नुकसान करवा बैठें।


ध्यान दें कि इन मॉडिफाइड एप्स का इस्तेमाल करने पर आपका अकाउंट डिसेबल हो जाए या आपके फोन में कोई वायरस आ जाए यह जरूरी नहीं लेकिन ऐसा हो सकता है। कई लोग काफी सालों से इस तरह के मॉडिफाइड वर्जन का इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन आपकी सिक्योरिटी और प्राइवेसी कितनी सुरक्षित (Safe) है इसकी कोई गारंटी नहीं दी जा सकती।

 

अंतिम शब्द

GB WhatsApp, OG WhatsApp, FM WhatsApp जैसे अनऑफिशियल व्हाट्सएप वर्शन का उपयोग करने में कई जोखिम हैं। जबकि ये वर्शन कुछ अतिरिक्त सुविधाएँ प्रदान कर सकते हैं, उनकी सुरक्षा और प्राइवेसी की कोई गारंटी नहीं होती। इसके विपरीत, आधिकारिक व्हाट्सएप सुरक्षित और विश्वसनीय है, और इसका उपयोग करने से आप कानूनी समस्याओं से भी बचे रहते हैं। इसलिए, अपनी सुरक्षा और प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए, हमेशा आधिकारिक व्हाट्सएप का ही उपयोग करें।


प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *