-->

5G Technology क्या है? कैसे काम करता है 5जी Network जानिए Hindi में

5G Technology क्या है? कैसे काम करता है 5जी Network जानिए हिंदी में, आज हम आपको What is 5G Technology and How does it Works In Hindi और इसके कुछ फायदे आइये इसके बारें में विस्तार से जानते है...

    What is 5G Technology and how does it Works in Hindi - 5जी Network क्या है? यह कैसे काम करता है

    भारत में 4G लॉन्च किए जाने के बाद से जिस तरह की क्रांति देखने को मिली है वह आप सभी जानते हैं रिलायंस जिओ द्वारा भारत में 4G लॉन्च किए जाने के बाद से ही देशभर में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या में काफी ज्यादा उछाल देखने को मिला है।

    ऐसे में 4G सुविधा के बाद अब लोग 5G का एक्सपीरियंस लेने के लिए तैयार बैठे हैं और दुनिया के कई बड़े देशों जैसे अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया तथा चीन में तो 5G का इस्तेमाल करना शुरू भी कर दिया है।

    भारत में 5G की दौड़ में Reliance Jio ही एक बार फिर बाज़ी मारती दिखाई दे रही है और Jio भारत में 5जी की टेस्टिंग करने के लिए तैयार बैठा है।

    5G Network क्या है कैसे काम करती है 5जी Technology
    5G Network क्या है कैसे काम करती है 5जी Technology

    लेकिन भारत में कई लोगों को 5G Kya Hai इसके बारे में जानकारी नहीं है ऐसे में आज के इस लेख में हम आपको 5G नेटवर्क क्या होता है (What is 5G Technology in Hindi) और यह कैसे काम करता है (How does 5G Network Works) इसके बारे में बताने जा रहे हैं साथ ही हम आपको 5G के कुछ फायदे (Benifits) और नुकसान या कहें चुनौतियों के बारे में भी जानकारी देंगे।


    5G क्या होता है - What is 5G Technology in Hindi

    5G की फुल फॉर्म फिफ्थ जेनरेशन यानी मोबाइल नेटवर्क की पांचवी पीढ़ी है और यह अब तक की नवीनतम पीढ़ी भी है। जिसकी स्पीड 4G नेटवर्क से 100 गुना अधिक होगी।

    यह तकनीक आपको हाई स्पीड डाटा के साथ-साथ समय की बचत, अच्छी क्वालिटी और एनर्जी बचाने के साथ ही बहुत सारे डिवाइस पर कनेक्टिविटी को सुपरफास्ट बनाने का भी काम करेगी।

    कुछ रिपोर्ट के अनुसार 5G नेटवर्क की डाटा स्पीड 20gbps तक हो सकती है जिससे किसी भी एचडी मूवी को कुछ ही सेकंड के अंदर ही डाउनलोड किया जा सकेगा।

    अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि भारत में आखिर यह है कितना महंगा या कितना सस्ता होगा।

    और जिस तरह से 4G ने 3G को रिप्लेस किया था इसी तरह आने वाले समय में 5G अब 4G को रिप्लेस करेगा और आज जिस प्रकार हम 4G का इस्तेमाल कर रहे हैं इसी तरह से आने वाले समय में हम 5G का इस्तेमाल करेंगे।


    यह भी पढ़ें: India Me 5G Network Kab Tak Launch Hoga

    5G नेटवर्क कैसे काम करता है - How 5G Technology Works

    5G नेटवर्क के काम करने के पीछे कई तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है ऐसे में इन सभी तकनीक का सही से और सही समय पर इस्तेमाल करने के कारण ही यह आपको हाई स्पीड डाटा ट्रांसफर प्रोवाइड करवा पाता है।

    High Friquency Band: 5G को सुचारू और सही ढंग से काम करने के लिए हाई फ्रिकवेंसी बैंड (लगभग 3.5GHz से 6GHz) की आवश्यकता होती है परन्तु अब 24Ghz-300Ghz स्पेक्ट्रम पर काम करने की योजना पर विचार किया जा रहा है।

    MilliMeter: 5G डाटा एक्वायर करने के लिए मिलीमीटर वेव (mmWave) का इस्तेमाल किया जाता है जिससे 1GB प्रति सेकंड डाटा ट्रांसफर संभव हो पाता है।

    Mini Cell Tower: इसके साथ ही मिनी सेल टावर की भी अहम भूमिका होती है क्योंकि 5G टेक्नोलॉजी में मिलीमीटर रेंज के साथ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

    और इन रुकावटों और दिक्कतों की भरपाई करने के लिए मेन सेल टावर से थोड़ी-थोड़ी दूरी (जैसे लाइट पोल्स और बिल्डिंग आदि) पर यह स्मॉल सेल स्टेशंस बनाए जाते हैं जिन्हें मिनी सेल टॉवर्स कहते हैं।

    और यह यूजर के आसपास होने के कारण काफी अच्छी स्पीड दे पाते हैं।

    MIMO Technology: इसके साथ ही 5G टेक्नोलॉजी का एक आधार MIMO भी है जिसे मल्टीपल इनपुट और मल्टीपल आउटपुट टेक्नोलॉजी के नाम से जाना जाता है। यह टेक्नोलॉजी ट्रैफिक को मैनेज करता है और इसमें MIMO 100 टावर को एक साथ सपोर्ट करके हाई ट्रैफिक के दौरान टावर की क्षमता को बढ़ाता है, जिससे 5G सिंगनल पहुंचाने में सहायता मिलती है।


    यह भी पढ़ें: Jio और Google लॉन्च करेंगे सस्ते 4G and 5G Smartphones

    5G टेक्नोलॉजी के क्या फायदे हैं? - Benifits of 5G Innovation

    5G टेक्नोलॉजी एक सुपर फास्ट इंटरनेट टेक्नोलॉजी होगी जिसमें आप किसी भी HD मूवी को 3 सेकंड के भीतर डाउनलोड कर सकेंगे ऐसा इसलिए क्योंकि 5G नेटवर्क की स्पीड 20gb प्रति सेकंड तक होने की उम्मीद है।

    5G टेक्नोलॉजी के आने से दुनिया भर में कई तरह के इनोवेशन होने की उम्मीद है जिसमें वर्चुअल रियलिटी, ऑटोमेटिक ड्राइविंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स को तेज बहाव मिलेगा।

    आने वाले समय में हम कुछ बेहतर अनुभव कर पाएंगे इस टेक्नोलॉजी से मेडिकल, मैन्युफैक्चरिंग के साथ-साथ इंफ्रास्ट्रक्चर में भी बदलाव होने वाला है।


    • 5G Technology के आ जाने से ऑनलाइन काम करने वालों की गिनती में इजाफा होगा और ज्यादातर काम वर्क फ्रॉम होम ही किए जाने लगेंगे।

    • नेटवर्क का कोई Issue नहीं रहने की संभावना है जिससे आपको हाई स्पीड इंटरनेट डाटा मिलेगा।

    • सब कुछ रियल टाइम पर वर्क करेगा और Live Activities में इजाफा होगा।

    • यह आपकी बैटरी और ऊर्जा की खपत को कम करके आप का टाइम बचाएगा।

    • किसानों को आधुनिक खेती में सहायता मिलेगी।

    • हेल्थ सेक्टर को बड़ा फायदा मिलने की उम्मीद भी है।

    5G Technology की चुनौतियां

    • 5G टेक्नोलॉजी काफी महंगी है और इसे अच्छी सिक्योरिटी और PRIVACY के साथ Launch करना काफी मुश्किल काम माना जा रहा है।

    • टेलीकॉम कंपनियों के पास मौजूद कई डिवाइस इसके बैंडविथ को सपोर्ट नहीं करते ऐसे में बहुत सारे डिवाइस को बदलना होगा जिससे बहुत सारा नुकसान होने की संभावना है।

    • कुछ रिपोर्ट के मुताबिक 4G फोन में ही 5जी इंटरनेट चला सकेंगे लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो लोगों को अपना डिवाइस या फोन बदलना होगा जिससे काफी नुकसान और खर्च भी होगा।

    • 5G में इस्तेमाल होने वाली मिलीमीटर-वेव उसके रास्ते में आने वाले रुकावटों जैसे पेड़ों के द्वारा या बारिश की वजह से अवशोषित भी हो सकता है। जो एक बड़ी चुनौती है।

    यह भी पढ़ें:

    Jio 5G Glass हुआ भारत में लांच, जानिए क्या है इसके ख़ास फीचर्स

    Jio TV Camera: जिओ टीवी कैमरा से करे अपनी टीवी पर वीडियो कॉल

    रिलायंस जियो का गीगा फ़ाइबर प्लान क्या है, रजिस्ट्रेशन कैसे करें?


    अंतिम शब्द

    दोस्तों आपको पता चल ही गया होगा कि 5G नेटवर्क क्या होता है और यह कैसे काम करता है तथा भारत में 5G नेटवर्क कब लॉन्च होगा और इसके फायदे एवं नुकसान क्या है।

    अगर आपको भी What is 5G Technology and How does it Works In Hindi की यह Information अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ भी जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इस तरह की महत्वपूर्ण जानकारी मिल सके।

    follow haxitrick on google news
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post