-->

राष्ट्रिय युवा दिवस 2020: स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर जानिए National Youth Day के बारे में

    Advertisement

    राष्ट्रिय युवा दिवस २०२०: स्वामी विवेकानंद जयंती - Swami Vivekananda Birthday and National Youth Day 2020 Hindi

    Swami Vivekananda Jayanti Rashtriya Yuva Diwas 2020 Date: आज 12 जनवरी 2020 को स्वामी विवेकानंद जी की 157वी जयंती (Birthday) है, स्वामी विवेकानंद जी (12 जनवरी 1863 - 4 जुलाई 1902) भारत के महान दार्शनिक, युवा संन्यासी, शुभचिंतक और युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत के रूप में जाने जाने वाले एक महान व्यक्ति थे. स्वामी विवेकानंद जी की जयंती (Swami Vivekananda Birthday 2020) को भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day India) के रूप में मनाया जाता है.

    Swami VivekaNanda Jayanti National Youth Day Rashtriya Yuva Diwas 2020
    Swami VivekaNanda Jayanti National Youth Day Rashtriya Yuva Diwas 12 January 2020

    स्वामी विवेकानंद जी के बचपन का नाम विवेकानंद नहीं था उन्होंने यह नाम कैसे मिला और विवेकानंद जी की जयंती (Swami Vivekananda Birthday Date Hindi) को राष्ट्रीय युवा दिवस (Rashtriya Yuva Diwas) के रूप में क्यों मनाया जाता है.

    तथा स्वामी विवेकानंद जी कौन थे (Swami Vivekananda Biography in Hindi) इनके बारे में भी आपको विस्तार (All Information in Hindi) से बताते हैं तथा राष्ट्रीय युवा दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है, इस साल की थीम (National Youth Day 2020 Theme in Hindi) क्या है? यह भी जान लेते हैं.

    राष्ट्रीय युवा दिवस | National Youth Day 2020 Information In Hindi

    1. कब मनाया जाता है हर साल 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के उपलक्ष में राष्ट्रीय युवा दिवस (नेशनल यूथ डे) मनाया जाता है, इस साल राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day) 12 जनवरी 2020 रविवार को मनाया जाएगा.

      वहीं अगर बात करें अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस की तो पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस 12 अगस्त को मनाया जाता है.

    2. क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय युवा दिवस भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने का फैसला भारत के केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 1984 में लिया गया जिसके बाद 12 जनवरी 1985 को पहला राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया गया तभी से हर साल 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जी के जन्मदिन के दिन है राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है.

      राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाने का मुख्य उद्देश्य युवाओं को ऊर्जावान बनाना और उन्हें सद्बुद्धि और सही मार्ग पर अग्रसर करना है स्वामी विवेकानंद हमेशा से ही युवाओं को देश का भविष्य और अपनी आशाओं को युवा वर्ग पर टिका हुआ बताया है.

    3. यह भी पढ़े: 26 जनवरी को पहला गणतंत्र दिवस क्यों और कैसे मनाया गया

    4. कैसे मानते है: National Youth Day को हर साल एक ख़ास थीम के साथ मनाया जाता है, इस साल उत्‍तर प्रदेश में लखनऊ के इंदिरा प्रतिष्‍ठान में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 23वें राष्‍ट्रीय युवा उत्‍सव 2020 का आयोजन किया जाएगा। इस युवा उत्‍सव का आयोजन 12 जनवरी से 16 जनवरी 2020 तक किया जाएगा।

      आमतौर पर इस दिन तरह तरह के रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. साथ ही निबंध लेखन, सुविचार और युवा सम्‍मेलन जैसे कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है.
    5. थीम 2020: इस साल राष्ट्रीय युवा दिवस 2020 की थीम ‘फिट यूथ फिट इंडिया’ है। (The Theme of National Youth Day 2020 is Fit Youth Fit India).

      वहीं पिछली साल 2019 को National Youth Day की Theme Channelizing Youth Power for Nation Building थी.

    यह भी पढ़े: जानिए गुरु तेग बहादुर जी की शहादत के बारें में, क्यों कहलाते हैं ‘हिंद दी चादर’

    आइए अब आपको स्वामी विवेकानंद जी के बारे में बताते हैं कि स्वामी विवेकानंद जी कौन थे, (Swami Vivekananda Biography in Hindi).

    स्वामी विवेकानंद कौन थे | Swami Vivekananda Biography in Hindi

    1. कौन थे: स्वामी विवेकानंद भारत के दार्शनिक, शुभचिंतक, युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत, समाज सुधारक, युवा संन्यासी और एक महान देशभक्त थे.

    2. जन्म: कोलकाता के एक कायस्थ परिवार में 12 जनवरी सन 1863 को जन्में स्वामी विवेकानंद जी के बचपन का नाम नरेंद्र नाथ दत्त था.

    3. यह भी पढ़े: अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस 2019: कब, क्यों और कैसें मनाया जाता है, थीम और इतिहास

    4. माता पिता: नरेंद्र नाथ दत्त (विवेकानंद जी) के पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था जो कोलकाता हाई कोर्ट के एक प्रसिद्ध वकील थे और उनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था जो एक धार्मिक विचारों वाली महिला थी.

    5. शिक्षा: स्वामी विवेकानंद बचपन से ही पढ़ाई में काफी तेज थे 1871 में वह ईश्वरचंद्र विद्यासागर के मेट्रोपोलिटन संस्थान में पढ़ाई के लिए स्कूल गए.
      1879 में वह प्रेसीडेंसी कॉलेज की प्रवेश परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल करने वाले इकलौते छात्र थे.

      उन्होंने ज्यादातर सभी चीजों का अध्ययन किया वह दर्शनशास्त्र, इतिहास, समाज कला, साहित्य, धर्म, वेद, धार्मिक पुस्तकें (जैसे श्रीभगवद गीता, रामायण, महाभारत) तथा हिंदू शास्त्रों को भी पढ़ा.

      वह भारतीय शास्त्रीय संगीत, खेल कूद और व्यायाम (Yoga) में भी काफ़ी आगे थे, उन्होंने 1881 में ललित कला की परीक्षा पास कर 1884 में आर्ट्स से ग्रेजुएशन के डिग्री पूरी की.

    6. गुरु रामकृष्ण परमहंस: विवेकानंद जी साल 1881 में ही गुरू रामकृष्ण परमहंस से कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली माता मंदिर में मिले, जिसके बाद उन्होंने अपना पूरा जीवन गुरूदेव रामकृष्ण परमहंस को समर्पित कर दिया वह गुरु सेवा और गुरु भक्ति के रूप में पूरे संसार में जाने जाते हैं.

    7. यह भी पढ़े: शहीद भगत सिंह जी की जयंती और जीवनी

    8. सन्यासी जीवन: नरेंद्र नाथ दत्त (विवेकानंद) ने अपनी 25 वर्ष की आयु में ही अपना घर बार छोड़ सन्यास ले लिया और गेरुआ वस्त्र धारण किया. सन्यास लेने के बाद ही नरेंद्र नाथ दत्त स्वामी विवेकानंद कहलाए.

    9. रामकृष्ण मठ स्वामी विवेकानंद जी ने 9 दिसंबर 1898 को कलकत्ता के पास बेलूर में गंगा तट पर अपने गुरू/शिक्षक रामकृष्ण को समर्पित रामकृष्ण मठ की स्थापना की।

    10. यात्राएं: स्वामी विवेकानंद जी ने संयास लेने के बाद पूरे भारत वर्ष का पद भ्रमण (पैदल यात्रा) किया, उन्होंने 31 मई 1893 को विश्व यात्रा शुरू की जिसमें वह जापान का दौरा करते हुए चाइना और कनाडा से होकर अमेरिका के शिकागो शहर पहुंचे.

    11. विश्व धर्म परिषद में प्रतिनिधित्व: जिस समय स्वामी विवेकानंद जी भारत का प्रतिनिधित्व करने शिकागो पहुँचे, उस समय भारत के गुलाम होने के कारण भारतीय लोगों को काफी निम्न दृष्टि से देखा जाता था.

      लेकिन जब उन्होंने विश्व धर्म परिषद में अपने भाषण की शुरुआत अमेरिका के भाइयों और बहनों कहकर की तो तालियों की गूंज काफी देर तक रही और उनके विचारों से परिषद में बैठे विद्वान काफी ज्यादा प्रभावित भी हुए. और वहाँ के लोग स्वामी विवेकानंद जी के Fan बन गए.

    12. यह भी पढ़े: विश्व हिंदू परिषद द्वारा शौर्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास

    13. स्वामी विवेकानंद जी की मृत्यु: स्वामी विवेकानंद जी को दमा और शुगर की शिकायत थी जिसके कारण उनकी मृत्यु काफी कम आयु में हो गई. उन्होंने 40 साल से कम आयु में ही 4 जुलाई 1902 को बेलूर में स्थित रामकृष्ण मठ में ध्यान मग्न अवस्था में ही महासमाधि धारण कर अपने प्राण त्याग दिए.

      जिसके बाद उनका अंतिम संस्कार बेलूर में गंगा तट पर चन्दन की चिता पर उनके गुरुदेव रामकृष्ण परमहंस के दूसरी ओर किया गया.

    अंतिम शब्द

    स्वामी विवेकानंद जी ने उठो जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त ना हो जाए, जैसे प्रेरणादायक विचारों को युवाओं के जहन में उतारा। वे भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के एक प्रमुख प्रेरणा के स्रोत थे। तो दोस्तों अब तो आप समझ ही गए हैं कि राष्ट्रीय युवा दिवस (नेशनल यूथ डे २०२०) और स्वामी विवेकानंद जी की जयंती कब क्यों और कैसे मनाई जाती है (Swami Vivekananda Birthday Information in Hindi).

    अगर आपको राष्ट्रीय युवा दिवस की थीम (National Youth Day 2020 Theme in Hindi) और स्वामी विवेकानंद जी की जयंती और उनके बारे में दी गई है जानकारी अच्छी लगी तो इस जानकारी को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भी जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी भारत के एक महान व्यक्तित्व वाले स्वामी विवेकानंद जी के बारे (Information About Swami Vivekananda in Hindi) में पता चल सके.
    The End
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
    -->
    NEXT ARTICLE Next Post
    PREVIOUS ARTICLE Previous Post
     

    About Writer